घोटाले में उपयंत्री, अकाउंटेंट, एसडीओ समेत छह को नोटिस

Prashant Sahare

Publish: Nov, 30 2016 11:49:00 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
 घोटाले में उपयंत्री, अकाउंटेंट, एसडीओ समेत छह को नोटिस

चौरई एसडीएम ने जनपद पंचायत के प्रस्ताव पर दिए आदेश, जिला पंचायत की टीम भी खंगाल रही रिकॉर्ड, दस दिन के अंदर राशि जमा करने पर इन्हें जेल भी हो सकती

छिंदवाड़ा . चौरई जनपद पंचायत के अंतर्गत ग्राम पंचायत चीजगांव और जमुनिया में हुए लाखों रुपए के  मनरेगा घोटाले में रिकवरी के नोटिस चौरई एसडीएम आरके बहोत ने मंगलवार को जारी किए। इसका प्रस्ताव जनपद पंचायत द्वारा दिया गया था। दस दिन के अंदर राशि जमा करने पर इन्हें जेल भी हो सकती है। इधर, जिला पंचायत की जांच टीम ने एडीशनल सीईआे अनुराग मोदी की अगुआई में इसके  रिकॉर्ड खंगाले। 

इस पंचायत में मनरेगा में गड़बड़ी की शिकायत जनपद पंचायत उपाध्यक्ष राधेश्याम रघुवंशी ने की थी और विधायक रमेश दुबे ने इसका मामला विधानसभा में उठाया था। आरोप यह था कि चीजगांव में 10 लाख की रोड बना दी गई, लेकिन इसका भुगतान मनरेगा से 13 लाख रुपए कर दिया गया। जमुनिया में भी अपात्रों के पशु शेड भी बना
दिए गए।

जनपद पंचायत की जांच में यह प्रमाणित होने पर रिकवरी प्रस्ताव एसडीएम को भिजवाया गया। एसडीएम ने मनरेगा सहायक लेखा अधिकारी नितेश माहोरे पर 1.82 लाख, जमुनिया सरपंच ममता सनोडि़या पर 1.15 लाख, तत्कालीन सचिव राजेश सनोडि़या पर 1.15 लाख, एसडीओ एमएस साहू पर 1.15 लाख और उपयंत्री बुशरा खान व मिथिलेश बघेल पर अलग-अलग राशि के रिकवरी नोटिस जारी किए। इन्हें दस दिन में राशि जमा करने के लिए कहा गया है।  इस राशि को जमा न करने पर पंचायती राज एक्ट की धारा 92 के तहत जेल हो सकती है।

लेखा अधिकारी के खाते में 34 लाख
मनरेगा के सहायक लेखा अधिकारी नितेश माहोरे के बैंक खाते में मार्च से जून तक 34 लाख रुपए जमा क राए गए। ये कहां और कैसे आए? यह जांच का विषय है। इसके बैंक खाते के रिकॉर्ड जनपद उपाध्यक्ष रघुवंशी ने जिला पंचायत की जांच टीम को सौंपे और बयान भी रिकॉर्ड कराए। बताया गया कि चौरई विधायक रमेश दुबे और जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेन्द्र रघुवंशी इस प्रकरण को 30 नवम्बर को हो रही जिला योजना समिति की बैठक में उठा सकते हैं।

जिला पंचायत की टीम ने देखे रिकॉर्ड
जिला पंचायत के अतिरिक्त सीईओ अनुराग मोदी, लेखाधिकारी सतीश बुलबांके समेत अन्य जांच टीम के कर्मचारियों ने इन दोनों पंचायतों के रिकॉर्ड देखे और मनरेगा की गड़बडि़यों की जांच की। जांच टीम इसका प्रतिवेदन जिला पंचायत सीईओ को देगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned