प्रसूता ने सड़क पर दिया नवजात को जन्म, नवजात की हुई मौत

Akanksha Singh

Publish: Jul, 18 2017 01:46:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
प्रसूता ने सड़क पर दिया नवजात को जन्म, नवजात की हुई मौत

व्यवस्था ने एक एक बार फिर जननी सुरक्षा योजना को धता बताते हुए अपनी कार गुजारियों पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है. 

चित्रकूट। व्यवस्था ने एक एक बार फिर जननी सुरक्षा योजना को धता बताते हुए अपनी कार गुजारियों पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है. चित्रकूट में सड़क पर ही एक प्रसूता ने नवजात को जन्म दिया लेकिन दुर्भाग्य कहें या सिस्टम की लापरवाही कि नवजात की मौत हो गई. घटना के बाद पीड़िता के परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है तो वहीं अस्पताल प्रशासन ने सारे आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए लापरवाही न बरतने की बात कही.

जनपद के कर्वी कोतवाली क्षेत्र में उस समय सड़क किनारे लोगों की भीड़ एकत्र होने लगी जब एक प्रसूता ने सड़क पर ही नवजात को जन्म दिया और नवजात की मौत हो गई. स्थानीय लोगों की सूचना पर आधे घण्टे बाद पहुंची एम्बुलेंस ने दोनों (जच्चा व बच्चा) को अस्पताल पहुंचाया. जानकारी के मुताबिक कोतवाली क्षेत्र की निवासी गुड़िया गर्भवती थी और घर में अकेले थी. परिजन बाजार गए थे. इसी दौरान उसे प्रसव पीड़ा होने लगी और वह बिना किसी को सूचित किए जिला अस्पताल के लिए निकल पड़ी. रास्ते में अत्यधिक प्रसव पीड़ा के दौरान गुड़िया गिर पड़ी, इस बीच आस पास की महिलाओं ने उसे किसी तरह सड़क के किनारे किया. इस बीच प्रसव हो गया. पीड़िता के परिजनों के मुताबिक प्रसव होने के दौरान स्थानीय लोगों ने एम्बुलेंस को सूचना दी लेकिन समय पर एम्बुलेंस नहीं पहुंची. लगभग आधे घण्टे बाद मौके पर पहुंची एम्बुलेंस ने दोनों को जिला अस्पताल पहुंचाया जहाँ डॉक्टरों ने नवजात को मृत घोषित कर दिया. परिजनों का आरोप था कि यदि समय रहते एम्बुलेंस पहुंचती तो बच्चे की जान बचाई जा सकती थी.

इधर सारे आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए सीएमओ रामजी पाण्डेय ने कहा कि सूचना मिलते ही सीएमएस को जानकारी देकर मौके पर एम्बुलेंस को भेजा गया. सीएमएस एनके गुप्ता ने बताया कि महिला ने मृत शिशु को जन्म दिया था और यह महिला का पहला बच्चा था, आरोप निराधार हैं.

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned