दुनिया के चौथा सबसे अमीर शख्स ने केवल 48 रुपए भरा अपना पहला रिटर्न

Corporate
दुनिया के चौथा सबसे अमीर शख्स ने केवल 48 रुपए भरा अपना पहला रिटर्न

दुनिया के सबसे बड़े इन्वेस्टर वारेन बफे को लोग उनके बेहतर निवेश रणनीति और कम उम्र में अपार दौलत कमाने को लेकर जानते हैं।  वॉरेन कम उम्र में ही छोटे-छोटे लेकिन बड़े तरीकों से कमाई कर 16 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते 53 हजार डॉलर की कमाई कर चुके थे।

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे बड़े इन्वेस्टर वारेन बफे को लोग उनके बेहतर निवेश रणनीति और कम उम्र में अपार दौलत कमाने को लेकर जानते हैं।  वॉरेन कम उम्र में ही छोटे-छोटे लेकिन बड़े तरीकों से कमाई कर 16 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते 53 हजार डॉलर की कमाई कर चुके थे। अरबों की दौलत वाले वॉरेन ने अपने जीवन का पहला टैक्स 14 साल की उम्र में भरा था जो 7 डॉलर  यानि करीब43 रुपए  था।. यह  जानकारी  हाल ही में उनके टैक्स रिटर्न दस्तावेज पीबीएस न्यूजआवर ने जारी किए थे। दरअसल अमरीका में 500डॉलर के ऊपर कमाने वाले व्यक्ति को टैक्स रिटर्न फाइल करना होता  है और वॉरेन की कमाई 1944 में 592.50 डॉलर थी। 


पेपर बेचकर कमाया 
वारेन बफे ने अपनी पहली कमाई का ज्यादातर हिस्सा पेपर बेचकर कमाया था। साल 1944 में महज 14 साल के वारेन वॉशिंगटन की गलियों में साइकिल से अखबार बेचकर एक साल में 364 डॉलर कमाए थे।  इतना ही नहीं 14 साल की उम्र में ही वॉरेन बफेट ने साबित कर दिया था कि निवेश के क्षेत्र में उन्हें कितनी दक्षता हासिल है। साल 1944 के आंकड़ों को देखें तो तब 14 साल बफेट ने 228.5 डॉलर महज निवेश से कमाए थे।


11 साल उम्र से करने लगे निवेश
 वफे सिर्फ 11 साल की उम्र से ही छोटी-छोटी कंपनियों में निवेश करने लगे थे। चार बार सांसद रहे और ब्रोकर के बेटे वॉरेन बफेट ने बाद में स्टोक मार्केट में निवेश को ही अपने बिजनेस के रूप में चुना। इसलिए आज निवेश के मामले में उन्हें विश्व का सबसे अग्रणी बिजनेसमैन माना जाता है। साल 1944 में 592.5 डॉलर कमाने वाले बफेट ने अपनी कमाई में 45 डॉलर खर्च किए थे। जिसमें 35 डॉलर की उन्होंने बाइक खरीदी जबकि 10 डॉलर उन्होंने अपनी घड़ी ठीक कराने में खर्च किए।


आय में कटौती करने का आरोप
अमेरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने  वॉरेन बफेट पर अपनी आय में कटौती करने का आरोप लगाय था। जिसके जवाब में वफेट ने कहा थआ कि उनके पास सभी 72 आयकर रिटर्न के सबूत अभी मौजूद हैं, राष्ट्रपति चाहे तो देख सकते हैं। दूसरी तरफ टाइम मनी ने हाल में प्रकाशित अपने लेख में कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आजतक अपने आयकर रिटर्न के बारे में जानकारी नहीं दी। वहीं अगर साल 1944 में वफेट द्वारा 7 डॉलर की रकम की तुलना आज से की जाए तो ये रकम साल 2017 में 97.13 डॉलर के बराबर बैठती है। जबकि 592.5 डॉलर आज 8221.18 डॉलर के बराबर बैठेंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned