विदेश पैसे भेजने का बड़ा घोटाला,13 कंपनियों पर सीबीआई का शिकंजा

Crime
विदेश पैसे भेजने का बड़ा घोटाला,13 कंपनियों पर सीबीआई का शिकंजा

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने 2,200 करोड़ रू के एक बड़े घोटाले का खुलासा करने का दावा किया है। इस घोटाले में 13 कंपनियों के शामिल होने का मामला प्रकाश में आया है। इन कंपनियों ने विदेशों से आयात माल का बिल माल की कीमत से अधिक भुगतान कर घोटाले का नया तरीका अपनाया है।

नई दिल्ली: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने 2,200 करोड़ रू के एक बड़े घोटाले का खुलासा करने का दावा किया है। इस घोटाले में 13 कंपनियों के शामिल होने का मामला प्रकाश में आया है। इन कंपनियों ने विदेशों से आयात माल का बिल माल की कीमत से अधिक भुगतान कर घोटाले का नया तरीका अपनाया है।

इन कंपनियों ने मात्र 24.64 करोड़ की कीमत के माल का भुगतान 2,200 करोड़ रु की बड़ी धनराशि के रूप में किया। सीबीआई ने इस बारे में स्टेलकन इन्फ्राटेल लिमिटेड एसआईपीएल तथा 12 अन्य कंपनियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। 

घोटाले में किया गया 6 बैंक खातों का इस्तेमाल 
एसआईपीएल ने कथित तौर पर 2015-16 के दौरान माल के फर्जी आयात के जरिए बड़े पैमाने पर पैसा  अवैध तरीके से विदेश भेजा। सीबीआई का कहना है कि इस घोटाले में कई लेनदेन पंजाब नेशनल बैंक में कंपनी के खाते से किए गए। 

कंपनी ने छह बैंक खातों का इस्तेमाल करते हुए कुल 680.12 करोड़ रूपये विदेश भेजे। जबकि वास्तव में इस दौरान 3.14 करोड़ रुपये के घोषित मूल्य के केवल 25 बिल बनाए गए। इस तरह से एसआईपीएल ने कंपनी ने 676.98 करोड़ रुपये अवैध रूप से विदेश भेजे।
 
कंपनियों का फर्जी पते पर आईईसी पंजीकरण
सीबीआई का कहना है कि 12 अन्य कंपनियों ने भी यही तरीका अपनाते हुए 1,572.7 करोड़ रुपये विदेश भेजे। केंद्रीय जांच एजेंसी ने यह भी आरोप लगाया कि ये सभी कंपनियां फर्जी पते पर आईईसी पंजीकरण के जरिए तैयार की गई थीं। वर्ष 2015 और 2016 के दौरान इन कंपनियों ने जेएनपीटी और मुंबई पोर्ट के माध्यम से अलग-अलग माल आयात किया था।



























Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned