महिला कांस्टेबल से शिवसेना नेता ने की मारपीट! आगे महिला ने क्या किया, जिसके कारण उसे मिला इनाम?

Crime
महिला कांस्टेबल से शिवसेना नेता ने की मारपीट! आगे महिला ने क्या किया, जिसके कारण उसे मिला इनाम?

इस महिला पुलिसकर्मी ने बिना किसी दबाब में आए अपनी बहादुरी दिखाई और अपनी ड्यूटी पूरी तत्परता और निष्ठा से निभाई। हम बात कर रहे हैं सीमा काले की, जोकि थाणे आयुक्तालय के अंदर नियुक्त हैं...

मुंबई: लोगों के नजर में आमतौर पर ट्रैफिक पुलिसकर्मी आम जनता की नफरत के शिकार होते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है! वे हमेशा अपनी पेनल्टी रशीद के साथ अपनी ड्यूटी करते नजर आते हैं और उन्हें दंडित करते हैं जो ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते हैं. वहीं कुछ पुलिसकर्मी ऐसे भी होते हैं जो आम नागरिकों की रक्षा के लिए भी हमेशा तैयार रहते हैं। इसी सब के बीच एक महिला ट्रैफिक पुलिस कांस्टेबल इसका परफैक्ट उदाहरण है।

इस महिला पुलिसकर्मी ने बिना किसी दबाब में आए अपनी बहादुरी दिखाई और अपनी ड्यूटी पूरी तत्परता और निष्ठा से निभाई। हम बात कर रहे हैं सीमा काले की, जोकि थाणे आयुक्तालय के अंदर नियुक्त हैं. सीमा काले को हाल ही में ड्यूटी के लिए उनकी उत्कृष्ट प्रदर्शन और पिछले साल गाली गलौज करने वाले उल्लंघनकारी को गिरफ्तार कराने में मदद के लिए 10,000 रूपये के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

क्या था मामला-
शर्मनाक: शिवसेना नेता की 'गुंडई', मोबाइल पर बात करने से रोका तो महिला कांस्टेबल को पीट डाला
असल में, घटना मुंबई से सटे ठाणे की है. 25 फरवरी 2016 के दिन सीमा रोज की तरह थाणे के नितिन कंपनी चौक पर सिग्नल को हैंडल कर रही थीं। इस वक्त वो काफी व्यस्त थीं, तभी एक एक स्कार्पियो गाडी बिना सिग्नल की परवाह किए उनके नजदीक से होते हुए गुजरी। गाडी चलाने वाला शख्स शशिकांत कलगुड़े, जोकि शिवसेना पार्टी के नेता थे, शशिकांत कालगुडे स्कॉर्पियो में बैठे हुए थे और फोन पर बात कर रहे थे. शशिकांत फोन में इतना मशगूल हो गए कि वहां जाम लगना शुरू हो गया. मौके पर तैनात ट्रैफिक कांस्टेबल सीमा काले ने जब शशिकांत को फोन पर बात करने से मना किया तो नेताजी अपना आपा खो बैठे.

इसका मतलब था कि उसने एक साथ दो अपराध किये थे. पहले तो सीमा ने कलगुड़े को रुकने का इशारा किया, लेकिन वो उन्हें चकमा देंने की कोशिश करने लगा. इसके तुरंत बाद सीमा ने अपनी ड्यूटी निभाते हुए उसे रोकने के लिए गाड़ी के आगे जाकर खड़ी हो गईं।

नितिन चौक पर लगे सीसीटीवी कैमरे में यह सारी घटना कैद हुई। सीसीटीवी फुटेज में साफतौर पर देखा जा रहा था कि सीमा ने गाडी को रोकते हुए चालक से उसके लाइसेंस के लिए पूछा। गाडी के चालक शशिकांत इस पर बहुत ज्यादा क्रोधित होकर अपना आपा को बैठा और महिला पुलिस कांस्टेबल सीमा के साथ बत्तमीज़ी, गाली गलौज और मारपीट तक करने लगा।

डरने के बजाय सीमा ने साहस दिखाया और उसका सामना करते हुए वहां डटी रहीं। वो उस शिवसेना कार्यकर्ता के खिलाफ सख्त कार्यवाई करने से भी नहीं हिचकिचाई। इस सब के बीच यह पूरी घटना वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद होती रही।

मुंबई ट्रैफिक पुलिस ने सीमा के साहस और निष्ठा पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इतना सबकुछ सहने के बावज़ूद, सीमा अपनी बहादुरी का परिचय देते हुए कलगुड़े को पकडे रहीं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned