एक बच्ची की मौत, दूसरी की हालत गंभीर

Damoh, Madhya Pradesh, India
एक बच्ची की मौत, दूसरी की हालत गंभीर

अज्ञात बीमारी का दंश, गांव पहुंचा स्वास्थ्य अमला, आज फिर होगीं जांचें, गंभीर बीमारी गलाघोंटू की आशंका

दमोह/पटेरा। ब्लॉक के नयागांव में पिछले पांच दिनों से ग्रामीण एक अज्ञात बीमारी को लेकर काफी परेशान है, इससे ग्रसित एक बालिका की जान भी जा चुकी है, जबकि एक का उपचार भोपाल में चल रहा है। लक्षण को जानने के बद इस बीमारी को गलाघोंटू जैसी गंभीर बीमारी माना जा रहा है। दो मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की अलर्ट हो गया है। बुधवार की टीम ने गांव पहुंचकर करीब आधा दर्जन बच्चों का भी चेकअप किया है। आज भोपाल से आ रही बच्ची ही पुन: जांच की जाएगी। 

जानकारी के अनुसार नयागांव निवासी मुकेश काछी पटैल की पुत्री प्रियंका 4 वर्ष को करीब छह दिन पहले गले में दर्द की शिकायत के चलते नजदीकी ग्राम कोटा में झोलाछाप डॉक्टर को चेक कराया था। आराम न मिलने की वजह से शुक्रवार को पटेरा लाया गया, जहां एक बार फिर झोलाछाप डॉक्टर को दिखाया गया। जिससे गले की सूजन तो कम हुई, लेकिन अंदर से दर्द न खत्म होने के कारण दमोह में निजी डॉक्टर को दिखाया गया। जहां गलाघोंटू होना बताया गया, इसके बाद बच्ची को जबलपुर ले गए, जहां उपचार के पूर्व ही प्रियंका की मौत 14 अक्टूबर को हो गई।

इधर 16 अक्टूबर को मुकेश के भाई पन्नालाल की पुत्री  दीक्षा 2 साल को भी इसी तरह की तकलीफ हुई। जिसका चेकअप तत्काल ही परिजनों ने जिला अस्पताल में कराया। जिसे भी गलाघोंटू जैसी बीमारी बताकर जबलपुर रेफर किया गया। जबलुपर से भी बच्ची को भोपाल हमीदिया रेफर किया गया। जहां दीक्षा की जांच और उपचार किया गया है। 

इधर गलाघोंटू जैसे गंभीर रोग की संभावना की जानकारी लगते ही पटेरा स्वास्थ्य केंद्र के बीएमओ व टीम बुधवार को नयागांव पहुंची, जहां पारिवार के लोगों की जांच की एवं ग्राम में जाकर दवाई वितरित की गई। परिवार से बच्चे सौरभ को कुछ  तकलीफ  होने की वजह टीम द्वारा दमोह ले जाकर चेकअप कराया गया। मृतक प्रियंका का रिकॉर्ड भी आंगनबाड़ी में नहीं मिलने पर बीएमओ ने नाराजगी जताई है। 

पटेरा बीएमओ डॉ. अशोक बडोन्या का कहना है कि प्रियंका की मौत की जानकारी ली है, पहले कोई जानकारी नहीं मिलने पर मौत का कारण तो स्पष्ट नहीं कहा जा सकता है। हामीदिया में उपचाररत दीक्षा के वापस लौटने पर उसके पर्चे चेक किए जाएंगे और दमोह में उसका चेकअप भी कराया जाएगा, इसके बाद भी बीमारी स्पष्ट हो जाएगी। फिलहाल टीम गांव में अपने स्तर पर बीमारी का पता लगाने में लगी रहेगी। 


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned