वार्डबॉय के भरोसे कंट्रोल रूम

Datia, Madhya Pradesh, India
वार्डबॉय के भरोसे कंट्रोल रूम

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल से लडख़ड़ाईं स्वास्थ्य सेवाएं

दतिया. संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल के पहले दिन ही स्वास्थ्य सेवाएं लडख़ड़ाती नजर आईं। शुक्रवार से व्यवस्थाएं और ज्यादा प्रभावित होने की संभावना है। हड़ताल के पहले दिन ही वार्डों में स्टाफ की कमी नजर आई और जननी एक्सप्रेस का कॉल सेंटर खाली नजर आया। जननी एक्सप्रेस का कॉल सेंटर खाली होने की वजह से कॉल सेंटर में वार्ड बॉय की तैनाती की गई है।

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी वेतन वृद्धि, नियमितीकरण, अप्रेजल व्यवस्था खत्म किए जाने सहित अन्य मांगों को लेकर तीन दिवसीय हड़ताल पर चले गए। संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा प्रांतीय संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ एवं भारतीय मजदूर संघ(बीएमएस) के तत्वाधान में हड़ताल पर हैं। कर्मचारियों की हड़ताल तीन दिन से और आगे बढ़ेगी या नहीं यह अभी स्पष्ट नहीं हैं। संविदा कर्मचारियों के हड़ताल का व्यापक असर शुक्रवार से नजर आएगा।

सरकार कर रही दमन

हड़ताल के पहले दिन गुरुवार को संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने गांगोटिया हनुमान मंदिर पर धरना दिया। धरने का नेतृत्व संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ जिलाध्यक्ष कुलदीप श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर उन्होंने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि शासन संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ दमनकारी नीति अपना रहा है। इस अवसर पर आशीष खरे, रविंद्र यादव, भानुप्रिया श्रीवास्तव, कीर्ति चौहान, खुशबू लिटौरिया, हेमा यादव, कुसुम सूत्रकार, पंकज श्रीवास्तव, ईशू रावत, साहिन वेगम, कीर्ति पाल, रामवती दोहरे आदि मौजूद रहे।

आज करेंगे भजन कीर्तन

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी शुक्रवार को हड़ताल के दूसरे दिन गांगोटिया हनुमान मंदिर पर धरना देने के साथ शासन को सदबुद्धि दिए जाने के लिए धरना स्थल पर भजन-कीर्तन करेंगे।

यह व्यवस्थाएं प्रभावित

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने की वजह से एनआरसी(पोषण पुनर्वास केंद्र),  एसएनसीयू (गहन शिशु चिकित्सा इकाई), ट्रॉमा सेंटर में मरीजों की देखरेख, दवा वितरण एवं ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण का काम प्रभावित हो रहा है।

वार्डों में घटा स्टाफ

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने की वजह से जिला चिकित्सालय के सभी वार्डों में स्टाफ की कमी आ गई है। अस्पताल में आमतौर पर मरीजों की देखरेख के लिए दो लोगों का स्टाफ रहता है, लेकिन वर्तमान में एक-एक नियमित स्टाफ को तैनात किया गया है।

स्टाफ के स्ट्राइक पर जाने से काम प्रभावित हुआ है। रेग्यूलर स्टाफ की व्यवस्था की है और कर्मचारियों की छुट्टियां निरस्त कर दी गई हैं। जहां दो कर्मचारियों की जरूरत हैं वहां एक कर्मचारी को तैनात किया गया। ट्रेनिंग सेंटर से नर्सिंग स्टाफ को बुलाया है अगर जरूरत पड़ी तो कल से और व्यवस्था करेंगे।

डॉ सुरेंद्र भार्गव आर एम ओ



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned