4 राज्यों के 22 हाइवे पर उतरेंगे लड़ाकू विमान 

Shankar Sharma

Publish: Oct, 18 2016 11:15:00 (IST)

New Delhi, Delhi, India
4 राज्यों के 22 हाइवे पर उतरेंगे लड़ाकू विमान 

देश के चार राज्यों में 22 हाइवे पर रनवे विकसित किया जा सकेगा। सूत्रों के मुताबिक, इनका उपयोग फाइटर प्लेन की लैंडिंग और टेकऑफ में किया जा सकेगा

नई दिल्ली. देश के चार राज्यों में 22 हाइवे पर रनवे विकसित किया जा सकेगा। सूत्रों के मुताबिक, इनका उपयोग फाइटर प्लेन की लैंडिंग और टेकऑफ में किया जा सकेगा। उत्तर प्रदेश, राजस्थान, अरुणाचल प्रदेश और मेघालय में रनवे तैयार किया जाएगा। केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि इससे जुड़े प्रपोजल को अंतिम रुप देने के लिए परिवहन और रक्षा मंत्रालय की संयुक्त कमेटी की बैठक जल्द ही होगी।

पाक में  चार रनवे
यहां चार रनवे बनाए जा चुके हैं। वर्ष 2000 में फाइटर प्लेन लैंङ्क्षडग का ट्रायल किया जा चुका है। इनमें एम-1 हाइवे पेशावर को इस्लामाबाद से जोड़ता है जबकि एम-2 हाइवे लाहौर को इस्लामाबाद से।

जंगल में रनवे
स्वीडेन में पहला रनवे 1949 में शुरू हुआ था। स्वीडेन में घने जंगलों के बीच भी आपातकाल के दौरान लैंडिंग और उड़ान भरने की व्यवस्था है। यहां लैंडिंग होने वाले हेलीकॉप्टरों के रखरखाव की सुविधा होती है।

एक्सप्रेस वे पर उतरा था मिराज
पिछले साल भारतीय वायुसेना ने यमुना एक्सप्रेस वे पर अपना एक हेलीकॉप्टर उतारा था। पिछले साल 'मिराज-2000Ó को यमुना एक्सप्रेस वे पर परीक्षण के बतौर उतारा था।

पहला हाइवे रनवे जर्मनी में बना
हाइवे पर रनवे सबसे पहले द्वितीय विश्वयुद्ध के समय जर्मनी मेें बनाया गया था। इसके बाद उत्तरी कोरिया, ताइवान, स्वीडेन, फिनलैंड, स्विट्जरलैंड, पोलैंड, पाकिस्तान और चेकोस्लोवाकिया में बनाया गया।

सामरिक शक्ति बढ़ेगी
हमारे देश की सीमाएं खुली हुई हैं। ऐसे में जंग के समय किसी फाइटर प्लेन को रिफ्यूङ्क्षलग कराना पड़े, युद्ध के साजोसामान, सैनिकों की शिफ्टिंग, चिकित्सकीय सुविधा आदि चंद घंटों में मुहैया कराने में इसका फायदा लिया जा सकेगा। दुर्गम इलाकों को देखते हुए  कहा जा सकता है कि इससे हमारी ताकत कई गुना बढ़ जाएगी।

प्रफ्फुल बक्षी  रिटा. विंग कमांडर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned