कॉम्बिफ्लेम सहित 60 दवाएं जांच में खरी नहीं

Shankar Sharma

Publish: Apr, 22 2017 12:01:00 (IST)

New Delhi, Delhi, India
कॉम्बिफ्लेम सहित 60 दवाएं जांच में खरी नहीं

देश में दर्दनाशक के तौर पर बिक रही मेडिसिन कॉम्बिफ्लेम लोगों को बीमार कर सकती है। यही हालत डी कोल्ड टोटल की भी है। ये दोनों दवाएं सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) की जांच में फेल हो गई हैं

नई दिल्ली. देश में दर्दनाशक के तौर पर बिक रही मेडिसिन कॉम्बिफ्लेम लोगों को बीमार कर सकती है। यही हालत डी कोल्ड टोटल की भी है। ये दोनों दवाएं सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) की जांच में फेल हो गई हैं।

सीडीएससीओ ने इन दवाओं की जांच पिछले महीने की थी, जिसमें इन दोनों दवाओं को निम्न स्तर का पाया गया है। इन दोनों के अलावा सिप्ला के ऑफलाक्स -100 डीटी टैबलेट्स और थियो अस्थिलिन टैबलेट्स, साथ ही कैडिला की कैडिलोज भी जांच में फेल रही है। सीडीएससीओ ने कॉम्बिफ्लेम, ऑफलॉक्स, कैडिलोज समेत 60 दवाओं को लेकर चेतावनी जारी की है, क्योंकि यह तय मानकों पर खरे नहीं उतरी हैं। कॉम्बिफ्लेम का बैच 151195 निम्न स्तर का पाया गया।

साइड इफेक्ट
टेस्ट में फेल होना स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा हो सकता है, क्योंकि इस टेस्ट में यह जानने की कोशिश की जाती है कि कितने समय में टैबलेट या कैप्सूल शरीर में मिल जाती है। कॉन्बिफ्लेम की बड़ी खेप सब-स्टैंडर्ड पाई  हैं।  ऐसी दवा से पेट में ब्लीडिंग हो सकती है। गैस्ट्रो-इन्टेस्टाइनल की परेशानी हो सकती हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned