अस्थि संचय के लिए मुक्तिधाम में बनेगा केंद्र

amit mandloi

Publish: Jun, 19 2017 11:05:00 (IST)

Dhar
अस्थि संचय के लिए मुक्तिधाम में बनेगा केंद्र

क्रियाकर्म के बाद अस्थि घर नहीं ले जाना पड़ेगी, सर्वसुविधायुक्त होगा केंद्र

धार । मुक्तिधाम में जीर्णोद्वार के तहत विशाल सभागार के साथ ही अस्थि संचय कक्ष बनाया जाएगा। इसके बाद परिजन को अस्थियां लेकर घर नहीं जाना होगा। कोई भी व्यक्ति अपने मृतक परिजन के दाह संस्कार के बाद उनकी अस्थि इस केंद्र में सुरक्षित रख सकेगा।

कलेक्टर श्रीमन शुक्ला ने मुक्तिधाम में पूर्व में बनाए गए सभागार को बड़ा करने के साथ ही एक अस्थि केंद्र भी बनाने के लिए निर्देश दिए है। इस केंद्र में परिजन मृतक का दाह संस्कार करने के बाद उक्त केंद्र में अस्थि संचय कर अपनी इच्छानुसार रख सकेगा। इसके लिए संबंधित को नाममात्र का शुल्क ही देना होगा। अस्थि केंद्र में लॉकर के साथ ही कई तरह की सुविधा भी दी जाएगी। नाम के टेग व एक लोटे में कुछ समय के लिए अस्थि रखी जा सकेगी।
कई तरह की आती थी समस्या

पंडितों के अनुसार मान्यता है कि अस्थियों को गंगा या नर्मदा में विसर्जन किया जाता है। अस्थियों को घर के अंदर नहीं ले जाया जाता है। अभी तक आम जनता अस्थियों को सुरक्षित रखने के लिए घर के बाहर पेड़ से बांधकर लटका देते थे। इसमें कई तरह की परेशानी होती थी। बारिश में या फिर पशु-पक्षियों के पेड़ से गिराने का डर बना रहता था।
संचय केंद्र बनने से रहेगी सुरक्षित

मुक्तिधाम में अस्थि संचय केंद्र बनने से अस्थियां सुरक्षित तो रहेगी ही साथ ही मान्यताओं को पूरा करने के लिए भी समय मिल सकेगा। छोटे-छोटे लॉकर दिए जाएंगे, जिसमें अस्थियों का संचय कर रखा जा सकेगा। इसके लिए फिलहाल नाममात्र का शुल्क तय करने की योजना है।
आम जनता के लिए सुविधा

कलेक्टर के निर्देश पर मुक्तिधाम में अस्थि संचय केंद्र बनाया जा रहा है। इसके लिए दूसरे शहरों की व्यवस्थाओं का अवलोकन किया जा रहा है। सबसे अच्छी सुविधा दी जाएगी। सभागार को भी बढ़ाया जा रहा है जिससे ज्यादा लोग बैठ सकें। प्रदेश का सबसे अच्छा मुक्तिधाम बनाने की योजना है।

पी एस धार्वे, सहायक यंत्री, नगर पालिका निगम, धार


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned