माहवारी के ज्यादा दर्द में करें होम्योपैथी उपचार

Vikas Gupta

Publish: Apr, 08 2017 11:11:00 (IST)

Disease and Conditions
माहवारी के ज्यादा दर्द में करें होम्योपैथी उपचार

यदि दर्द ज्यादा होने लगे और आप दैनिक कार्य भी न कर पाएं तो यह डीसमीनोरीया कहलाता है। अधिकतर यह समस्या 14-25 वर्ष की लड़कियों में हॉर्मोंस के बदलाव के कारण होती हैं।

माहवारी के समय थोड़ा-बहुत दर्द होना नॉर्मल है। यदि दर्द ज्यादा होने लगे और आप दैनिक कार्य भी न कर पाएं तो यह डीसमीनोरीया कहलाता है। अधिकतर यह समस्या 14-25 वर्ष की लड़कियों में हॉर्मोंस के बदलाव के कारण होती हैं।

लक्षण : पेट के निचले हिस्से, नाभि के हिस्से व जांघों में अत्यधिक दर्द होना, दर्द के साथ उबकाई व उल्टी आना, कब्ज या दस्त होना, सिरदर्द के साथ चक्कर आना, अत्यधिक थकान व बेहोशी आना आदि इस रोग के लक्षण माने जाते हैं। यह दर्द उम्र के साथ व अधिकतर मामलों में गर्भावस्था के बाद कम हो जाता हैं। दर्द का कारण ऑवरीज या यूट्रस में गांठें और पैल्विक इंफेक्शन भी हो सकता हैं।

विशेषज्ञ की राय
होम्यौपैथी में इसके लिए कॉलोफायलम, सिमिसीफूगा, बेलाडोना, कोलोसिंथ, मेग फास, सिकील कोर आदि दवाएं दी जाती हैं। ध्यान रहे पेनकिलर्स व अन्य हार्मोनल दवा ब्लीडिंग को बाधित कर सकती है।
 डॉ.सविता माहेश्वरी,होम्योपैथी विशेषज्ञ

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned