भूख हड़ताल में बैठे थे, मंत्री पति की बात बुरी लगी तो ABVP पदाधिकारी ने तत्काल दिया इस्तीफा

Bhilai, Chhattisgarh, India
भूख हड़ताल में बैठे थे, मंत्री पति की बात बुरी लगी तो ABVP पदाधिकारी ने तत्काल दिया इस्तीफा

उतई में संचालित सेल्फ फाइनेंस कोर्स की फीस वृद्धि का विरोध करने सोमवार को भूख हड़ताल पर बैठे एबीवीपी पदाधिकारी और कार्यकताओं की एक नहीं चली।

भिलाई/उतई. शासकीय कॉलेज, उतई में संचालित सेल्फ फाइनेंस कोर्स की फीस वृद्धि का विरोध करने सोमवार को भूख हड़ताल पर बैठे एबीवीपी पदाधिकारी और कार्यकताओं की एक नहीं चली। उलटा पदाधिकारी को पद से इस्तीफा देना पड़ गया। सुबह 10 बजे एबीवीपी के उतई नगर अध्यक्ष पूनमचंद सपहा कार्यकर्ताओं को साथ लेकर कॉलेज के प्रवेश द्वार पर भूख हड़ताल पर बैठ गया।

पूरे दिन छात्रनेता डटे रहे, लेकिन शाम करीब 6.30 बजे महिला एवं बाल विकास मंत्री रमशीला साहू के पति डॉ. दयाराम साहू के पहुंचते ही इस भूख हड़ताल में नया मोड़ आ गया। तहसीलदार व पुलिस प्रशासन के सामने हड़ताल समाप्त हो गई। छात्रनेता पूनमचंद ने बताया कि हड़ताल समाप्त कराने तरह-तरह के राजनीतिक, प्रशासनिक व कानूनी हथकंडे अपनाए गए हैं।

आला पदाधिकारियों ने नहीं दिया साथ

जायज मांग होने के बाद भी मंत्री पति व एबीवीपी के आला पदाधिकारियों ने साथ नहीं दिया। भूख हड़ताल का नेतृत्व कर रहे एबीवीपी समर्थित छात्रनेता पूनमचंद ने बताया कि पिछले साल कॉलेज में पीजी समाजशास्त्र की सालाना फीस 2500 थी, जिसे इस साल 4000 कर दिया गया है। फीस घटाने भूख हड़ताल करने पर खूब दवाब डाला। अपराधी करार दे दिया गया।

कहा कानूनी कार्रवाई की जाएगी
विद्यार्थियों को बोला गया कि कानूनी कार्रवाई की जाएगी। एक मजबूत संगठन होने के बावजूद ऐसी स्थिति बनी और बनने दी गई। यही वजह है कि बड़े ही दुख के साथ एबीवीपी से इस्तीफा देना पड़ रहा है। मंत्री पति दयाराम ने बताया कि छात्र नेताओं को सुबह से ही भूख हड़ताल वापस लेने के लिए कहा जा रहा था। कॉलेज ने फीस में अधिक वृद्धि नहीं की है। ये बात छात्रनेता समझने को तैयार नहीं थे।

भूख हड़ताल पर बैठना कैसे उचित हो सकता है। शाम को मैं एबीवीपी पदाधिकारी पूनम व कार्यकर्ताओं को समझाने पहुंचा, लेकिन उन्होंने मेरी भी बात नहीं मानी। मेरी मौजूदगी में ही नियम के तहत पुलिस प्रशासन ने डॉक्टरी मुलाहिजा कराने की बात कही। छात्रनेताओं ने इसे ईगो में ले लिया। उन पर कोई दबाव नहीं बनाया गया है। मुझे इनकी छात्र राजनीति से क्या करना है। छात्रनेताओं को कोई फटकार नहीं लगाई गई है। अगर पदाधिकारी ने इस्तीफा दिया भी होगा तो यह एबीवीपी देखें कि आगे क्या करना है।

ये पहुंचे भूख हड़ताल समाप्त कराने
छात्रनेताओं को समझाने और भूख हड़ताल समाप्त करने मंत्री पति दयाराम साहू के साथ कॉलेज जनभागीदारी समिति के सदस्य अशोक अग्रवाल, नवीन मंडी अध्यक्ष रूप नारायण शर्मा, उतई भाजपा मंडल अध्यक्ष डॉ. अनिल साहू व क्षेत्र के तहसीलदार अजीत चौबे पहुंचे। शाम करीब 7 बजे भूख हड़ताल समाप्त करा के छात्रनेता व विद्यार्थियों को कॉलेज से बाहर जाने को कह दिया गया। एबीवीपी के प्रदेश मंत्री अंकित जायसवाल ने बताया कि एबीवीपी पदाधिकारी पूनमचंद के इस्तीफे की उन्हें जानकारी नहीं मिली है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned