जयचंद किडनैपिंग केस: पीडि़त ने पहचानने से किया इनकार, आरोपी सांसद बरी

Ashish Gupta

Publish: Jan, 13 2017 11:00:00 (IST)

Durg, Chhattisgarh, India
जयचंद किडनैपिंग केस: पीडि़त ने पहचानने से किया इनकार, आरोपी
सांसद बरी

बहुचर्चित जयचंद वैद्य अपहरण कांड के आरोपी वैशाली (बिहार) के बाहुबली सांसद रामासिंह को जिला सत्र न्यायालय ने शुक्रवार को दोषमुक्त करार दिया।

दुर्ग. बहुचर्चित जयचंद वैद्य अपहरण कांड के आरोपी वैशाली (बिहार) के बाहुबली सांसद रामासिंह को जिला सत्र न्यायालय ने शुक्रवार को दोषमुक्त करार दिया। एक अन्य आरोपी अशोक सिंह उर्फ मैनेजर को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। प्रकरण पर फैसला विशेष न्यायाधीश मंसूर अहमद के न्यायालय में सुनाया गया। इस मामले में छह माह पहले रामासिंह ने न्यायालय में आत्मसमर्पण किया था।

पुलिस रामा सिंह के खिलाफ न्यायालय में कोई साक्ष्य पेश नहीं कर सकी। जयचंद वैद्य ने भी न्यायालय में रामासिंह को पहचानने से इनकार कर दिया। पुलिस रामा सिंह की पहचान कराने उसे जेल भी लेकर गई थी। जहां इस प्रकरण में सजायाफ्ता कैदियों ने भी रामा सिंह को पहचानने से इनकार कर दिया। न्यायालय ने दूसरे अभियुक्त अशोक सिंह उर्फ मैनेजर को अपरण में षडयंत्र में शामिल होने का दोषी पाया। उसे आजीवन कारावास से दंडित किया। फैसला सुनाए जाने के बाद रामसिंह ने कहा, वह निर्दोष थे। उन्हें राजनीतिक षडयंत्र के तहत फंसाया गया था।

जयचंद वैद्य अपरहण कांड: आरोपी सांसद रामासिंह ने कहा, मुझे नहीं करवाना नार्को टेस्ट

ये है मामला


घटना 23 मार्च 2001 की है। आरोप है कि फिरौती के लिए कुम्हारी के पेट्रोल पंप व्यवसायी जयचंद का अपहरण किया गया था। बाद में 25 लाख फिरौती लेकर मुगलसराय स्टेशन के पास छोड़ा था। इस मामले में 9 अभियुक्तों को पहले ही आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है।

जयचंद अपहरण कांड: बिहार के आरोपी सांसद रामसिंह ने किया सरेंडर

घटना के तीन साल बाद जांच के समय पुलिस ने सांसद रामासिंह को आरोपी बनाया। तब रामासिंह विधायक थे। पुलिस ने न्यायालय को जानकारी दी थी कि रामासिंह ने जयचंद वैद्य के मटीज कार का उपयोग किया था। इस कार का नंबर प्लेट बदलकर उपयोग किया जा रहा था। कार पुलिस ने 23 मई 2002 को सांसद के समर्थक संजय सिंह व विनय सिंह से जब्त की थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned