जीएसटी की दरें तय, दूध अौर फल पर नहीं लगेगा टैक्स 

Economy
जीएसटी की दरें तय, दूध अौर फल पर नहीं लगेगा टैक्स 

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की 14वीं बैठक में 1,211 सामानों पर कर की दरें तय करने पर सहमति बन गई। जीएसटी में दूध-फल समेत आम उपभोग की वस्तुओं और खाने पीने के ज्यादातर सामान को टैक्स के दायरे से बाहर रखा गया है।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में दो दिन तक चली वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की 14वीं बैठक में 1,211 सामानों पर कर की दरें तय करने पर सहमति बन गई। शुक्रवार को बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जानकारी देते हुए बताया कि जीएसटी में 81 फीसदी सामानों पर कर की दर 18 फीसदी से कम रखी गई है। जीएसटी में दूध-फल समेत आम उपभोग की वस्तुओं और खाने पीने के ज्यादातर सामान को टैक्स के दायरे से बाहर रखा गया है। परिषद की अगली बैठक अब 4 जून को होगी। 

इन्हें मिली कर से छूट
जीएसटी के अंतर्गत दूध, अंडे, नमक, ताजी सब्जियां, फल, गर्भनिरोधक, जैविक खाद, मिट्टी के बरतन, नारियल, गुड़, प्रसाद (धार्मिक स्थलों के जैसे मस्जिद, मंदिर, चर्च आदि), बिंदी, चूड़ी, शीशे की चूड़ियां, हैंडलूम, सुनने की मशीन, हाथ से बने संगीत उपकरण को जीएसटी के अंतर्गत छूट दी गई है। जीएसटी में कुल सात फीसदी सामानों को कर से छूट दी गई है।

इन पर लगेगा 12 फीसदी कर
वहीं, जिंदा जानवर, फल, मोबाइल फोन्स, फाउंटेन पेन इंक, टूथ पॉउडर, अगरबत्ती, फीडिंग बोतल, ब्रेल पेपर, बच्चों की कलरिंग किताबें, छाता, पेंसिल शार्पनर, ट्रैक्टर, साइकिल, कांटैक्स लेंस, चश्मों के लेंस, बरतन, खेल के सामान, मछली पकड़ने का डंडा, कंघी, पेंसिल और हैंड पेंटिंग पर  जूस, मक्खन, चीज और मांस पर 12 फीसदी कर लगेगा।

इन पर लगेगा 5 फीसदी कर   
बेवरेज श्रेणी में कॉफी (इंस्टैंट नहीं), चाय, मछली और मुंगफली, कोयला, हैंडपंप, चीनी और बीट शूगर, बायो गैस संयंत्र, पवन चक्की, केरोसिन और लालटेन को पांच फीसदी कर वाली श्रेणी में रखा गया है।

इन चीजों पर 18 फीसदी कर
हेलमेट, एलपीजी स्टोव, परमाणु रिएक्टर, घड़ियां, सैन्य हथियार, इलेक्ट्रॉनिक खिलौने और प्लास्टिक के बटन शामिल हैं।

इन सामानों पर कर की दर सबसे ज्यादा 28 फीसदी 
बोतलबंद पेय, परफ्यूम, ऑफ्टर शेव लोशन, डियोड्रेंट, फर के कपड़े, रेजर ब्लेड, कार, रिवाल्वर और पिस्तौल शामिल हैं। 

वहीं, छोटी कारों पर एक से तीन फीसदी सेस लगाया जाएगा। 350 सीसी से अधिक के इंजन वाली मोटरसाइकिल, निजी विमान, नौका, मध्यम श्रेणी के कारों पर 15 फीसदी सेस लगाया जाएगा। 

वस्तुओं की तरह सेवाओं को भी चार श्रेणियों में बांटने पर बनी सहमति
वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने शुक्रवार को अपनी बैठक में वस्तुओं की ही तरह सेवाओं की दरों को चार श्रेणियों में बांटने पर सहमति जताई। स्वास्थ्य सेवा तथा शिक्षा सेवाओं को जीएसटी से छूट दी गई है।

गुरुवार को लिए गए थे ये फैसले 
परिषद ने गुरुवार को 1,211 सामानों के लिए करों की दरों को मंजूरी प्रदान की थी। इनमें से 7 फीसदी सामानों पर कर नहीं लगेगा, 14 फीसदी को 5 फीसदी के स्लैब में रखा गया है, 17 फीसदी सामानों को 12 फीसदी कर की श्रेणी में रखा गया है, 43 फीसदी सामानों को 18 फीसदी कर की श्रेणी में शामिल किया गया है, जबकि 19 फीसदी सामानों पर करों की सबसे उच्च दर 28 फीसदी लगाई गई है। 

सोने की दर पर एक राय नहीं, अब 4 जून को होगी बैठक
बैठक के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए केरल के वित्त मंत्री थॉमस इसाक ने कहा कि सोने की दर को लेकर परिषद की बैठक में एक राय नहीं बन पाई। अब इस पर 4 जून को होने वाली परिषद की अगली बैठक में चर्चा की जाएगी।


GST

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned