खुदरा मुद्रास्फीति मार्च में बढ़कर 3.81 प्रतिशत पर

Economy
खुदरा मुद्रास्फीति मार्च में बढ़कर 3.81 प्रतिशत पर

दूध, अंडा, खाद्य तेल, ईंधन एवं बिजली की महंगाई से खुदरा महंगाई दर मार्च में बढ़कर पांच महीने के उच्च स्तर 3.81 प्रतिशत पर पहुंच गई। जबकि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई फरवरी में 3.65 प्रतिशत थी। दूध एवं दुग्ध उत्पादों तथा अंडा जैसे प्रोटीन युक्त खाने के सामान आलोच्य महीने में महंगे हुए और इनकी महंगाई दर क्रमश: 5.13 प्रतिशत तथा 2.96 प्रतिशत रही। तैयार खाना, स्नैक्स और मिठाई की कीमतों में भी मार्च में सालाना आधार पर 6.13 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 

नई दिल्ली. दूध, अंडा, खाद्य तेल, ईंधन एवं बिजली की महंगाई से खुदरा महंगाई दर मार्च में बढ़कर पांच महीने के उच्च स्तर 3.81 प्रतिशत पर पहुंच गई। जबकि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई फरवरी में 3.65 प्रतिशत थी। दूध एवं दुग्ध उत्पादों तथा अंडा जैसे प्रोटीन युक्त खाने के सामान आलोच्य महीने में महंगे हुए और इनकी महंगाई दर क्रमश: 5.13 प्रतिशत तथा 2.96 प्रतिशत रही। तैयार खाना, स्नैक्स और मिठाई की कीमतों में भी मार्च में सालाना आधार पर 6.13 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, हालांकि सब्जियों के दाम लगातार नीचे बने हुए हैं। इसके भाव इस बार मार्च महीने में एक साल पहले की तुलना में 8.57 प्रतिशत नीचे रहे। कुल मिलाकर खाद्य मुद्रास्फीति आलोच्य महीने में 1.85 प्रतिशत रही, जो फरवरी में 2.01 प्रतिशत थी। ईंधन और बिजली श्रेणी में महंगाई दर मार्च महीने में बढ़कर 5.75 प्रतिशत रही।

गांवों में कम रही महंगाई
अन्य खाद्य पदार्थों में तैयार एवं डिब्बाबंद उत्पाद 5.65 प्रतिशत, दूध एवं डेयरी उत्पाद 4.69 प्रतिशत, तेल एवं वसा युक्त पदार्थ 3.76 प्रतिशत, अंडे 3.21 प्रतिशत, शीतल एवं बिना अल्कोहल वाले अन्य पेय 3.17 प्रतिशत, मसाले 2.99 प्रतिशत और मांस एवं मछली 2.96 प्रतिशत महंगी हुई। आम तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में महंगाई दर ज्यादा होती है। लेकिन, मार्च में ग्रामीण इलाकों में खुदरा महंगाई दर 3.75 प्रतिशत और शहरी इलाकों में 3.88 प्रतिशत रही। इस साल फरवरी में ये क्रमश: 3.67 प्रतिशत और 3.55 प्रतिशत रही थी। 

ऐसा मुख्यत: ग्रामीण इलाकों में खाद्य पदार्थों के दाम में अपेक्षाकृत कम बढ़ोतरी से हुआ है। ग्रामीण इलाकों की खाद्य महंगाई दर 2.38 प्रतिशत रही है, जबकि शहरी इलाकों में यह 2.79 प्रतिशत रही। ग्रामीण उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में खाद्य पदार्थों का भारांश 54.18 प्रतिशत और शहरी सूचकांक में इसका भारांश 36.29 प्रतिशत है। पिछले साल मार्च की तुलना में पान एवं तंबाकू उत्पाद के दाम 6.23 प्रतिशत बढ़े। 

कपड़े और जूते-चप्पल आदि की महंगाई दर 4.60 प्रतिशत, आवास की 4.96 प्रतिशत और ईंधन एवं बिजली उत्पादों की 5.56 प्रतिशत रही। घरेलू उत्पाद एवं सेवाओं की महंगाई दर 4.08 प्रतिशत, स्वास्थ्य सेवाओं की 3.99 प्रतिशत और परिवहन एवं दूरसंचार की 6.04 प्रतिशत रही। मनोरंजन के साधन 3.57 प्रतिशत, शिक्षा 5.20 प्रतिशत और सौंदर्य उत्पाद 4.52 प्रतिशत महंगे हो गए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned