पदोन्नति में आरक्षणः संसद के मानसून सत्र में कर्मचारी और शिक्षक करेंगे प्रदर्शन

Shribabu Gupta

Publish: May, 07 2017 02:06:00 (IST)

Employee Corner
पदोन्नति में आरक्षणः संसद के मानसून सत्र में कर्मचारी और शिक्षक करेंगे प्रदर्शन

केन्द्र सरकार के पदोन्नति में आरक्षण देने की कोशिशों के परवान चढ़ने के साथ ही प्रदेश के शिक्षकों और राज्यकर्मचारियों में जबरदस्त उबाल आया है...

वाराणसी। केन्द्र सरकार के पदोन्नति में आरक्षण देने की कोशिशों के परवान चढ़ने के साथ ही प्रदेश के शिक्षकों और राज्यकर्मचारियों में जबरदस्त उबाल आया है। शिक्षकों और कर्मचारियों ने संसद के मानसून सत्र में दिल्ली में प्रदर्शन की घोषणा की है। साथ ही कहा है कि केंद्र की इस नीति के विरोध में राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेड़ा जाएगा।

सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के पदाधिकारियों ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी है कि यदि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को निष्प्रभावी कर पदोन्नति में आरक्षण पुनः बहाल करने की कोशिश की गई तो सरकार को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इसके विरोध में राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया जायेगा। पदाधिकारियों ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण को असंवैधानिक करार दिया है और सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुपालन में उत्तर प्रदेश में सरकारी सेवाओं में पदोन्नति में आरक्षण समाप्त किया जा चुका है। अब वोट बैंक की राजनीति के चलते केंद्र सरकार ने पदोन्नति में आरक्षण पुनः बहाल करने के लिए 117वें संविधान संशोधन बिल को लोकसभा से पारित कराने की प्रक्रिया पुनः प्रारम्भ कर दी है। इससे उत्तर प्रदेश के 18 लाख सरकारी कर्मचारियों, अधिकारियों और छह लाख शिक्षकों में भारी गुस्सा है।

समिति के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने पत्रिका को बताया कि निर्णय लिया गया है कि पदोन्नति में आरक्षण के विरोध में व्यापक जनजागरण अभियान चलाया जायेगा। इसके तहत संसद के मानसून सत्र के दौरान दिल्ली में राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन होगा। उन्होंने बताया कि जनजागरण अभियान के अन्तर्गत प्रदेश भर में कर्मचारियों, अधिकारियों, शिक्षकों, अधिवक्ताओं, छात्रों और बुद्धिजीवियों को लामबन्द कर धरना प्रदर्शन और रथ यात्राओं का आयोजन किया जाएगा। समिति शीघ्र ही अन्य प्रान्तों के कर्मचारी संगठनों से विचार विमर्श कर निर्णायक आन्दोलन की रूपरेखा घोषित कर देगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned