मध्यप्रदेश के 7 विश्वविद्यालयों में 8 हजार कर्मचारियों की हड़ताल

Shribabu Gupta

Publish: Mar, 07 2017 02:16:00 (IST)

Employee Corner
मध्यप्रदेश के 7 विश्वविद्यालयों में 8 हजार कर्मचारियों की हड़ताल

अकेले बीयू के ही 1.50 लाख छात्रों पर इसका असर होगा। ज्यादातर विश्वविद्यालयों में सेमेस्टर परीक्षाएं हुई ही नहीं हैं, जबकि कई परीक्षाओं के रिजल्ट आना बाकी हैं...

भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (बीयू) सहित प्रदेश के सात विश्वविद्यालयों के कर्मचारी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। इससे करीब 8 हजार कर्मचारियों के आंदोलन से सीधे तौर पर पांच लाख से ज्यादा छात्रों की परीक्षा और रिजल्ट प्रभावित होंगे। अकेले बीयू के ही 1.50 लाख छात्रों पर इसका असर होगा। ज्यादातर विश्वविद्यालयों में सेमेस्टर परीक्षाएं हुई ही नहीं हैं, जबकि कई परीक्षाओं के रिजल्ट आना बाकी हैं। बीयू में ही एमबीबीएस सहित अन्य विषयों की परीक्षाएं चल रही हैं। इसी बीच पिछले सेमेस्टर की परीक्षाओं के रिजल्ट भी आना बाकी है।

मप्र विश्वविद्यालयीन गैर शिक्षक कर्मचारी महासंघ के आव्हान पर बीयू सहित सभी सातों विश्वविद्यालयों के कर्मचारी अपनी 17 सूत्रीय मांगों को लेकर 16 फरवरी से चरणबद्ध आंदोलन कर रहे हैं। मांगों के समर्थन में कर्मचारियों ने सोमवार को सुबह 10.30 से दोपहर 1.30 बजे तक काम का बहिष्कार किया था। इस दौरान बीयू के प्रशासनिक भवन के सामने कर्मचारियों ने आमसभा बुलाकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की थी।






शासन की होगी जिम्मेदारी
महासंघ के प्रांतीय महासचिव लखन सिंह परमार का कहना है कि उच्च शिक्षा विभाग को पहले ही मांगों का ज्ञापन सौंपा जा चुका है, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। महासंघ ने साफ किया है कि हड़ताल के दौरान यदि छात्रों की परीक्षाएं व रिजल्ट के काम प्रभावित होते हैं तो इसकी सारी जिम्मेदारी शासन की होगी।

ये हैं मुख्य मांगे
- आकस्मिक निधि व दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमित किया जाए।
- राज्य शासन के कर्मचारियों की भांति विश्वविद्यालयीन कर्मचारियों को पेंशन का भुगतान हो।
- कर्मचारियों को समयमान वेतनमान 4500-7000 के स्थान पर 5500-9000 प्रदान किया जाए।
- चिकित्सा भत्ता 3000 रुपए मिले।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned