इटली के सुप्रीम कोर्ट ने सिखों को  नहीं दी कृपाण रखने की इजाजत

Europe
इटली के सुप्रीम कोर्ट ने सिखों को  नहीं दी कृपाण रखने की इजाजत

इटली में सिखों को सार्वजनिक स्थानों पर  कृपाण  रखने की इजाजत नहीं होगी। ये आदेश देश की सर्वोच्च अदालत ने दिया है। कोर्ट ने कहा है कि अगर आपको इटली में रहना है तो यहां के रीति-रिवाजों को मानना होगा। भारतीय मूल के एक सिख की याचिका पर सुनवाई करते हुए इटली की सुप्रीम कोर्ट ने कृपाण रखने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है। 

नई दिल्ली. इटली की सुप्रीम कोर्ट ने सिखों को कृपाण रखने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है। गायटो शहर में रहने वाले भारतीय मूल के एक सिख की अपील पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि कोई भी सिख अपने पास सिख पररंपराओं के अनुसार भी कृपाण धारण नहीं कर सकता। अपने आदेश में इटली की सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो प्रवासी सिख इटली में रहना चाहते हैं, उन्हें इटली के कानून अपनाने होंगे।  कोर्ट ने कहा कि  कृपाण लेकर घूमना देश के कानून का उल्लंघन है, इसलिए किसी को हथियार लेकर चलने की इजाजत नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने कहा कि हर धर्म के लोग इटली के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन जनता की सुरक्षा इन सबसे ज्यादा जरूरी है। कोर्ट ने कहा कि अगर आप इटली में रहते हैं तो आपको स्थानीय परंपरा के अनुसार रहना होगा। 

लोकल वैल्यूज समझें सिखः सुप्रीम कोर्ट
मामले की सुनवाई करते हुए इटली की सुप्रीम ने कहा कि हो सकता है आपके धार्मिक परंपरा के अनुसार कृपाण रखना जरूरी हो, लेकिन आपको स्थानीय मूल्यों को भी समझना चाहिए। कोर्ट ने कहा कि आपको भारत में बेशक कृपाल रखने की कानूनी इजाजत मिली हो, लेकिन इटली में इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती। अपने फैसले में इटली की सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये बात सत्य है कई तरह के लोगों से मिलकर समाज बनता है, लेकिन जिस देश (इटली) में आप रहते हैं, वहां की संस्कृति और कानूनी तरीके के हिसाब से रहना होगा। कोर्ट ने कहा कि अगर कृपाण रखने की इजाजत दी जाएगी तो स्थानीय लोगों में इससे टकराव बढ़ेगा।

पुलिस ने लगाया था 2000 जुर्माना
गायटो शहर में रहने वाले एक भारतीय मूल के सिख पर पुलिस ने दो हजार का जुर्माना लगाया था। उनके पास 20 सेमी की कृपाण मिलने पर इटली पुलिस ने 2000 रुपए का जुर्माना भी वसूला था, जिसके बाद भारतीय मूल के सिख ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी, जिनमें सिख परंपरा के अनुसार अपने पास कृपाण  रखने की इजाजत देने की मांग की गई थी। याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने याचिकाकर्ता को कृपाण रखने की इजाजत देने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि ऐसा करना इटली के कानून का उल्लंघन होगा। 

सिखों में पांच चीजें रखना अनिवार्य
सिखों के सर्वोच्च गुरु, गुरु गोविंद सिंह ने सिखों के लिए पांच चीजें अनिवार्य की थीं - केश, कड़ा, कृपाण, कंघा और कच्छा। इन के बिना खालसा वेश पूर्ण नहीं माना जाता। इनमें केश सबसे पहले आता है। इसलिए सिख समुदाय के लोग अपने धर्म के अनुसार ये सभी पांचों चीजें रखते हैं। ऐसा माना जाता है अगर इनसे में एक भी चीज नहीं है तो वह संपूर्ण नहीं है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned