दूसरों को रोकने वाले ट्रंप को ब्रिटेन आने से रोकने के लिए हस्ताक्षर अभियान

Europe
दूसरों को रोकने वाले ट्रंप को ब्रिटेन आने से रोकने के लिए हस्ताक्षर अभियान

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ब्रिटेन यात्रा रोकने के लिए की माग जोर पकडऩे लगी है। ट्रंप की भावी ब्रिटेन यात्रा रोकने के लिए 13 लाख से ज्यादा लोगों ने ऑनलाइन याचिका दायर की है। इसके साथ ही ट्रंप के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन की तैयारी भी चल रही है। 

लंदन. सात मुस्लिम बहुल्य देशों के नागरिकों पर अमरीका में घुसने पर प्रतिबंध लगाने वाके अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ब्रिटेन यात्रा रोकने के लिए की माग जोर पकडऩे लगी है। ट्रंप की भावी ब्रिटेन यात्रा रोकने के लिए 13 लाख से ज्यादा लोगों ने ऑनलाइन याचिका दायर की है। इसके साथ ही ट्रंप के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन की तैयारी भी चल रही है। बताया जाता है कि लंदन समेत ब्रिटेन के कम से कम 10 शहरों में डोनाल्ड ट्रंप की मुस्लिम और अप्रवासी विरोधी नीति के विरोध में प्रदर्शन हो सकते हैं।

आप्रवासियों और सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमरीका आने-जाने पर अस्थायी पाबंदी वाले ट्रंप के फैसले के खिलाफ जारी विरोध अब ब्रिटेन में भी तूल पकड़ता जा रहा है। दरअसल, ब्रिटेन में बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जिनके पास उन देशों की भी नागरिकता है, जहां के नागरिकों पर ट्रंप प्रशासन ने अस्थाई तौर पर अमरीका आने-जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसलिए ब्रिटेन में इस बात को लेकर असमंजस की स्थिति है कि अमरीका की नई नीति से देश के उन नागरिकों पर क्या असर पड़ेगा, जिनके पास उन सात देशों की भी दोहरी नागरिकता है। हालांकि, ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय ने सफाई देते हुए कहा है कि अमरीका में नए कार्यकारी आदेश का असर वहां जाने वाले उन ब्रितानी नागरिकों पर नहीं पड़ेगा, जिनके पास प्रभावित देशों की भी नागरिकता है। लेकिन, बताया जाता है कि भ्रम की स्थिति को देखते हुए ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन देश के सांसदों को बहुत जल्द संबोधित करने वाले हैं। हालांकि, इन सब से बेफिक्र ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ब्रिटेन यात्रा की बेसबरी से इंतजार कर रही हैं। 

थेरेसा की भी आलोचना
अमरीकीराष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नई आव्रजन नीतियों की निंदा से इनकार करने के कारण ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे भी काफी आलोचना झेल रही हैं। गौरतलब है कि थेरेसा इस वक्त तुर्की की यात्रा पर हैं और वहां इस संबंध में पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब में उन्होंने ट्रंप के इस कदम की आलोचना करने से इनकार कर दिया, जिसके कारण वह विवादों में घिर गईं हैं। हालांकि, बाद में उन्होंने अपनी सफाई पेश की। उनके कार्यालय के एक प्रवक्ता ने  कहा कि अमरीरका की आव्रजन नीतियां अमरीकी सरकार का मुददा हैं। लेकिन हम इस तरह के कदम से सहमत नहीं हैं और हम इसे अपनाने नहीं जा रहे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned