आज बन जाएंगे आपके सभी कार्य, इन शुभ मुहूर्त में करें काम

Sunil Sharma

Publish: May, 16 2017 09:04:00 (IST)

Festivals
आज बन जाएंगे आपके सभी कार्य, इन शुभ मुहूर्त में करें काम

शुभ नामक योग रात्रि 9.10 तक, तदुपरान्त शुक्ल नामक योग है

पंचमी पूर्णा संज्ञक तिथि दोपहर बाद 2.47 तक, तदुपरान्त षष्ठी नन्दा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। पंचमी तिथि में सभी स्थिर व चंचल कार्य, विवाह, प्रतिष्ठादिक समस्त शुभ व मांगलिक कार्य करने योग्य हैं। पर ऋण देना हितकर नहीं रहता। षष्ठी तिथि में यात्रा, उबटन, चित्रकारी आदि को छोड़कर सभी मांगलिक, वास्तु, अलंकारादिक व युद्ध सम्बंधी कार्य सिद्ध होते हैं।

नक्षत्र: उत्तराषाढ़ा 'ध्रुव व ऊध्र्वमुख' संज्ञक नक्षत्र सम्पूर्ण दिवारात्रि है। उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में यथा आवश्यक विवाह, देवस्थापन, विभूषित करना, गृहारम्भ, यात्रा, प्रवेश, वस्त्रालंकार, व्यवसायारम्भ तथा अन्य मांगलिक कार्यादि शुभ कहे गए हैं।

योग: शुभ नामक योग रात्रि 9.10 तक, तदुपरान्त शुक्ल नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग है। विशिष्ट योग: महापात योग सूर्योदय से प्रात: 8.37 तक है। इस पात में शुभ कार्य वर्जित हैं। करण: तैतिल नामकरण दोपहर बाद 2.47 तक, इसके बाद गरादि करण रहेंगे।

शुभ विक्रम संवत् : 2074
संवत्सर का नाम : साधारण
शाके संवत् : 1939
हिजरी संवत् : 1438
अयन : उत्तरायण
ऋतु : ग्रीष्म
मास : ज्येष्ठ। पक्ष - कृष्ण।

शुभ मुहूर्त : उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में यथाआवश्यक विवाह, उपनयन, प्रसूतिस्नान व हलप्रवहण आदि के शुभ मुहूर्त हैं।

श्रेष्ठ चौघडि़ए: आज प्रात: 9.03 से दोपहर बाद 2.03 तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत तथा अपराह्न 3.43 से सायं 5.23 तक शुभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर 11.56 से दोपहर 12.49 तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं।

ग्रह नक्षत्र परिवर्तन: पूर्वाह्न 11.23 पर गुरु वक्री हस्त के तृतीय चरण में प्रवेश करेगा। दिशाशूल: मंगलवार को उत्तर दिशा की यात्रा में दिशाशूल है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज पूर्व व दक्षिण दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद है। चन्द्रमा: चन्द्रमा 11.36 तक धनु राशि में, इसके बाद मकर राशि में रहेगा। ग्रह राशि नक्षत्र परिवर्तन: मंगल रात्रि 3.44 पर मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश करेगा। मृगाशिर मंगल का ही नक्षत्र है। राहुकाल: अपराह्न 3.00 से सायं 4.30 तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे

आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (भे,भो,ज,जी) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। पूर्वाह्न 11.36 तक जन्मे जातकों की राशि धनु व इसके बाद जन्मे जातकों की राशि मकर है। सभी बच्चों का जन्म ताम्रपाद से हुआ है, जो स्वास्थ्य की दृष्टि से शुभ है। सामान्यत: ये जातक साहसी, धर्मावलम्बी, घुम्मकड़, होशियार, चतुर, बहादुर, परोपकारी, मान-सम्मान वाले, विनम्र और शांत होते हैं। भाग्योदय लगभग 31 वर्ष की आयु तक। धनु राशि वाले जातकों के भूमि-भवन सम्बंधी कार्य सिद्ध होंगे। व्यापार-व्यवसाय की बाधा दूर होकर गतिशील होगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned