इस बार दो दिन मनेगी राम नवमी, इन मुहूर्त में होगी पूजा

Sunil Sharma

Publish: Apr, 04 2017 09:49:00 (IST)

Festivals
इस बार दो दिन मनेगी राम नवमी, इन मुहूर्त में होगी पूजा

कुछ पंचाग 4 को तो कुछ 5 अप्रेल को रामनवमी बता रहे हैं

इस बार मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव दो दिन मनाया जाएगा। अष्टमी व नवमी को लेकर इस बार पंचांगों में भ्रम की स्थिति है। कुछ पंचाग 4 को तो कुछ 5 अप्रेल को रामनवमी बता रहे हैं। जयपुर में 4 अप्रेल को रामनवमी मनाई जाएगी और इसी दिन भगवान राम की शोभायात्रा भी निकाली जाएगी।

यह भी पढें: रामचरित मानस के इन मंत्रों से होगा आपकी हर समस्या का समाधान

यह भी पढें: जानिए क्यों होता है पूजा में मौली, तिलक, नारियल तथा कपूर का प्रयोग

4 अप्रेल को राम नवमी मनाने का तर्क देने वाले ज्योतिषाचार्य पंडित सुरेश शास्त्री का कहना है कि भगवान श्रीराम का जन्म मध्य व्यापनी चैत्र शुक्ल नवमी में पुनर्वसु नक्षत्र में हुआ था। चार अप्रैल को मध्याह्न के समय नवमी पुनर्वसु नक्षत्र में है। इसलिए इसी दिन मध्याह्न में रामनवमी मनाना शास्त्र सम्मत रहेगा।

यह भी पढें: इन 108 नामों से करें गणपति की आराधना, हमेशा मिलेगी सफलता

यह भी पढें: लिंग स्वरूप की आराधना से तुरंत दूर होती है हर समस्या, ऐसे चढ़ाएं जल

चार अप्रैल को अष्टमी सुबह 11 बजकर 10 मिनट तक रहेगी, उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी। पांच अप्रैल को नवमी सुबह 10 बजकर 03 मिनट तक रहेगी। ऐसे में चार को ही राम नवमी मनाना श्रेष्ठ रहेगा। वही उदियात को मानने वाले ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि 5 अप्रेल को सूर्य नवमी में उदय होगा, इसलिए इसी दिन रामनवमी मनाई जानी चाहिए।

आज ये रहेंगे मुहूर्त
अष्टमी जया संज्ञक तिथि पूर्वाह्न 11.21 तक, तदन्तर नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि प्रारंभ हो जाएगी। अष्टमी तिथि में वैसे मनोरंजन के कार्य, रत्नपरीक्षण, विवाह, प्रतिष्ठा, वधू-प्रवेश व शस्त्रधारण आदि विषयक कार्य सिद्ध होते हैं। नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि में यद्यपि शुभ व मांगलिक कार्य वर्जित कहे गए हैं। पर आज रामनवमी भी होने से शुभ कार्यों के लिए सवयंसिद्ध अबूझ मुहूर्त है। अत: आज किये जाने वाले समस्त कार्य शुभ व सिद्ध होंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned