500 और 2000 के नए नोटों में 141.13 करोड़ रुपए अब तक किए गए जब्तः जेटली

Finance
500 और 2000 के नए नोटों में 141.13 करोड़ रुपए अब तक किए गए जब्तः जेटली

 केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि सरकारी एजेंसियों ने कुल 141.13 करोड़ रुपए नए 500 और 2000 के नोटों में जब्त किए गए हैं। जेटली ने लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि प्रवर्तन निदेशालय, केंद्रीय जांच ब्यूरो, आयकर विभाग और राजस्व खुफिया निदेशालय ने 141.13 करोड़ रुपए मूल्य के नए नोट जब्त किए हैं। 

नई दिल्ली. केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि सरकारी एजेंसियों ने कुल 141.13 करोड़ रुपए नए 500 और 2000 के नोटों में जब्त किए गए हैं। जेटली ने लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि प्रवर्तन निदेशालय, केंद्रीय जांच ब्यूरो, आयकर विभाग और राजस्व खुफिया निदेशालय ने 141.13 करोड़ रुपए मूल्य के नए नोट जब्त किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय द्वारा जब्त 2,000 रुपए और 500 रुपए के सभी नए नोटों को भारतीय स्टेट बैंक या किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में जमा कराया जाता है, ताकि वे प्रचलन में वापस आ सकें। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग अपनी खोज और जब्ती कार्रवाई के दौरान जब्त की गई नकदी को जल्द से जल्द राष्ट्रीयकृत बैंकों में बनाए गए सार्वजनिक जमा खातों में जमा करता है। जेटली ने कहा कि ईडी, सीबीआई, आईटी विभाग और डीआरआई सहित सभी सरकारी एजेंसियों की अखिल भारतीय उपस्थिति है और काले धन के जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए इनकी देश भर में मुख्यालय, विभिन्न क्षेत्रीय और क्षेत्रीय इकाइयां हैं।

18 लाख बैंक खाते हैं जांच के दायरे में 
केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि आठ नवंबर को की गई नोटबंदी के बाद करीब 18 लाख बैंक खातों में भारी मात्रा में नकदी जमा कराई गई है और यह रकम जमा करानेवाले की आर्थिक हैसियत से मेल नहीं खाती है। इसलिए इन खातों की जांच कराई जाएगी। लोकसभा में पूछे गए एक प्रश्न के जबाव में जेटली ने कहा कि ऐसे खातों को ढूंढ़ने के लिए डेटा माइनिंग का प्रयोग किया गया है।  जेटली ने कहा कि नोटबंदी के बाद कहीं जनधन खातों और निष्क्रिय खातों का दुरुपयोग तो नहीं किया गया, इसका पता लगाने के लिए डेटा माइनिंग के द्वारा खातों की जानकारी इकट्ठा की गई है और हमारी नजर उन पर है, जिन्होंने भारी मात्रा में नकदी जमा कराई है।

1.09 करोड़ खातों में 2 लाख से 80 लाख रु. तक जमा कराई गई रकम
मंत्री ने कहा कि ऐसे करीब 18 लाख बैंक खातों की पड़ताल की गई है। ऐसे लोगों को नोटिस भेजकर प्रारंभिक जानकारी मांगी गई है और कई लोगों ने अभी तक जबाव नहीं दिया है। जेटली ने अपने बजट भाषण में कहा था कि आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद से 30 दिसंबर तक करीब 1.09 करोड़ खातों में दो लाख रुपए से लेकर 80 लाख रुपए तक की रकम जमा कराई गई है, जो औसतन 5.03 लाख रुपये प्रति खाता है। कुल 1.48 खातों में 80 लाख रुपये से ज्यादा की रकम जमा कराई गई है, जिनका औसत जमा का आकार 3.31 करोड़ रुपये है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned