टैक्स सेविंग से संबंधित इन कामों को निपटाने के लिए बचे हैं तीन दिन

Finance
टैक्स सेविंग से संबंधित इन कामों को निपटाने के लिए बचे हैं तीन दिन

वित्त वर्ष 2016-17 को जाने में चंद दिन ही शेष हैं। यानी, टैक्स से लेकर सेविंग से जुड़े काम अगर अभी तक आपने पूरे नहीं किए हैं तो अब देर मत कीजिए। आपकी सुविधा के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने 1 अप्रेल तक सभी बैंकों को खुला रहने का आदेश दिया है। ऐसे में आप अंतिम क्षण का इंतजार किए बगैर अपने जरूरी काम को निपटा लें, नहीं तो हड़बड़ी में गलती होने का चांस अधिक होता है।

नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2016-17 को जाने में चंद दिन ही शेष हैं। यानी, टैक्स से लेकर सेविंग से जुड़े काम अगर अभी तक आपने पूरे नहीं किए हैं तो अब देर मत कीजिए। आपकी सुविधा के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने 1 अप्रेल तक सभी बैंकों को खुला रहने का आदेश दिया है। ऐसे में आप अंतिम क्षण का इंतजार किए बगैर अपने जरूरी काम को निपटा लें, नहीं तो हड़बड़ी में गलती होने का चांस अधिक होता है।

आयकर रिटर्न फाइल
अगर किसी कारण वश आपने वित्त वर्ष 2014-15 का आयकर रिटर्न नहीं भरा है, तो 31 मार्च अंतिम दिन है। इसके बाद आप इस वित्त वर्ष का आयकर रिटर्न फाइल नहीं कर सकते हैं। आयकर रिटर्न फाइल नहीं करनेे पर आपको जुर्माना देना पड़ सकता है। इसके साथ ही अगर आप पर पिछले साल का आयकर रिटर्न फाइल कर रहे हैं तो यह सुनिश्चित कर लें कि बकाया टैक्स पर आपने ब्याज की गणना की है या नहीं। टैक्स पेयर्स को 1 फीसदी सालाना ब्याज की दर से बकाया टैक्स पर आयकर की धारा 234ए से चुकाना होता है। इस टैक्स का भुगाना भी आप 31 मार्च तक ही कर सकते हैं।

नियोक्ता को सूचना

अगर आपने चालू वित्त वर्ष में जॉब चेंज किया है तो वर्तमान नियोक्ता को अपनी आय, पीएफ फंड में कंट्रीब्यूशन, 80सी के तहत किए हुए निवेश की जानकारी, एलटीए आदि की जानकारी 31 मार्च से पहले दे दें। ऐसा नहीं करने पर आपका नियोक्ता वर्तमान आय को कैलकुलेट कर टीडीएस काट लेगा। इससे बचने के लिए सभी जानकारियां 31 मार्च से पहले उपलब्ध करा दें।

निवेश में निरंतरता
जितने भी टैक्स सेङ्क्षवग निवेश के माध्यम हैं, उनमें निरंतरता की जरूरत होती है। यानी, साल में एक बार आपको उनमें निवेश करना जरूरी होता है। ऐसे में अगर आपने टैक्स सेविंग के लिए पीपीएफ, एनपीएस में निवेश किया है तो यह सुनिश्चित कर लें कि इस साल उनमें आपने पैसे का निवेश किया है। इस काम को भी आप 31 मार्च तक कर सकते हैं।

टैक्स सेविंग के लिए निवेेश
इस वित्त वर्ष में आपकी कर योग्य आय कितनी औैर इनकम टैक्स देने के लिए कितने का निवेश करना होगा, इसकी गणना अब कर लें। आपके पास मात्र दो दिन का समय शेेष है। फिर आप अपने वित्तीय गोल को देखते हुए सही प्रोडक्ट का चुनाव कर निवेश कर दें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned