स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ब्याज दर घटाई, सस्ता हुआ लोन

Finance
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ब्याज दर घटाई, सस्ता हुआ लोन

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की बैठक से पहले देश के सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक(एसबीआई) ने एक अप्रैल से आधार दर में 0.15 प्रतिशत की कटौती करके इसे 9.10 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले ब्याज दर 9.25 प्रतिशत थी। 

नई दिल्ली. रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की बैठक से पहले देश के सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक(एसबीआई) ने एक अप्रैल से आधार दर में 0.15 प्रतिशत की कटौती करके इसे 9.10 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले ब्याज दर 9.25 प्रतिशत थी। बैंक ने कहा कि ऋण दरों में की गई यह कटौती एक अप्रैल से ही प्रभावी हो गया है। उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की बैठक पांच और छह अप्रैल हो होगी, जिसके बाद समिति चालू वित्त वर्ष की पहली द्विमासिक मौद्रिक नीति जारी करेगी। हालांकि इसमें ब्याज दरों में किसी तरह की कमी की उम्मीद नहीं की जा रही है। लेकिन स्टेट बैंक ने समिति की बैठक से पहले ही ब्याज दरों में कटौती कर दूसरे बैंकों को भी इसका अनुसरण करने का मार्ग प्रशस्त किया है।

आधार दर न्यूनतम लोन दर है और बैंक इससे कम दर पर अपने कर्जदारों को लोन नहीं दे सकते हैं। एक अप्रैल 2016 को लेकिन न्यूनतम लोन दर तय करने की प्रक्रिया में बदलाव किया गया और तब से बैंक एमसीएलआर के आधार पर ब्याज दर तय करते हैं। एक अप्रैल 2016 के बाद लोन लेने वाले एमसीएलआर के आधार पर ब्याज चुकाते हैं। एसबीआई ने फिलहाल सिर्फ आधार दर घटाई है।

बैंक ने एमसीएलआर को यथावत रखा है। एमसीएलआर को गत जनवरी में एक साल की लोन दर में कटौती करके इसे आठ प्रतिशत और तीन साल की मियाद वाले लोन में ब्याज दर 8.15 प्रतिशत की थी। एसबीआई ने तब ही बताया था कि उसके 40 फीसदी कॉरपोरेट लोन और 10 फीसदी खुदरा लोन की ब्याज दर एमसीएलआर के आधार पर तय की गई है, जबकि शेष आधार दर यानी बेस रेट से जुड़े हैं। बैंक ने कहा था कि बेस रेट से जुड़े कर्जदार 0.5 फीसदी की फीस देकर एमसीएलआर के आधार पर ब्याज की नयी दर तय करा सकते हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned