फीफा रैंकिंग : भारत पहुंचा 101वें स्थान पर

Football
फीफा रैंकिंग : भारत पहुंचा 101वें स्थान पर

भारत की अभी तक की सर्वोच्च फीफा रैंकिंग 94 है, जो उसने फरवरी 1996 में हासिल की थी

नई दिल्ली। भारतीय फुटबाल टीम ने फीफा की मंगलवार को जारी ताजा रैंकिंग में 31 स्थानों की छलांग लगाते हुए 101वां स्थान हासिल किया है। भारत ने हाल ही में म्यांमार को 2019 में होने वाले एशियन कप के क्वालीफायर में तीसरे दौर में 1-0 से मात दी थी जो उसकी लगातार छठी जीत थी।

भारत की अभी तक की सर्वोच्च फीफा रैंकिंग 94 है, जो उसने फरवरी 1996 में हासिल की थी। नवंबर 1993 में भारत को 99वां और 1993 अक्टूबर में 100वां स्थान मिला था। अप्रैल 1996 में भी भारत को 100वां स्थान मिला था।

भारत के कुल 331 अंक हैं। पिछले महीने उसके 233 अंक थे। अपने इतिहास को पीछे छोडऩे के मुहाने पर खड़ी सुनील छेत्री की टीम ने कोरिया गणतंत्र, थाईलैंड, लातविया, जॉर्डन और इराक जैसे देशों को पीछे छोड़ा है। भारत के साथ इस स्थान पर संयुक्त रूप से इस्तोनिया, लिथुनिया और निकारगुआ हैं।


तो इन पर है अंडर-17 भारतीय टीम को विश्वकप जीतने की जिम्मेदारी
उनके मंगलवार को एआईएफएफ के अध्यक्ष प्रफुल पटेल से मुलाकात करने के बाद इस बात के कयास लगाए जाने लगे थे कि उन्हें अंडर-17 टीम की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। प्रफुल पटेल ने मातोस के कोच बनाए जाने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा हमें खुशी है कि टीम को मातोस का मार्गदर्शन मिलेगा।

वह काफी अनुभवी हैं और उनका अनुभव युवा खिलाडिय़ों को प्रतिस्पर्धी टूर्नामेंटों के लिए अपनी तैयारियों को पुख्ता करने में मददगार होगा। उनका विश्वकप के लिए टीम से जुडऩा हमारे लिए मनोबल बढ़ाने वाला है। दूसरी तरफ 63 वर्षीय मातोस ने अपनी नई भूमिका पर खुशी जताते हुए कहा कि वह एआईएफएफ को इसके लिए धन्यवाद देते हैं। उन्होंने कहा मेरी सर्वप्रथम यही प्राथमिकता रहेगी कि मैं हर खिलाड़ी के हिसाब से योजना तैयार करूं। मैं एआईएफएफ का आभारी हूं कि उसने मुझे इस जिम्मेदारी के लिए चुना।

खिलाडिय़ों को सबसे पहले खुद पर विश्वास करना चाहिए कि वह अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं और देश के लिए सफलताएं हासिल कर सकते हैं। उन्होंने एक दिलचस्प तथ्य बताते हुए कहा भारत से मुझे पुराना लगाव है क्योंकि मेरे दादा जी गोवा में पैदा हुए थे। मैं अपनी नई भूमिका को लेकर पूरी तरह से सकारात्मक हूं और टीम के साथ कड़ी मेहनत के लिए प्रतिबद्ध हूं। पटेल और केंद्रीय खेल मंत्री विजय गोयल ने फरवरी में अंडर-17 विश्वकप का शुभकंर खेलियो लांच करते हुए कहा था कि अंडर-17 टीम को फरवरी के अंत तक नया कोच मिल जाएगा और एक मार्च को टीम को नया कोच मिल गया।

एआईएफएफ ने पिछले कोच निकोलई एडम को खिलाड़यिों की शिकायत के बाद आपसी सहमति से उन्हें उनके पद से हटा दिया था। निकोलई को हटाने के बाद सीनियर टीम के कोच स्टीफन कोंस्टेनटाइन अंडर-17 टीम को देख रहे थे और उनके साथ पूर्व भारतीय कप्तान बाईचुंग भूटिया को टीम के साथ समय गुजारने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned