बदलेगा सबसे पॉपुलर खेल, 60 मिनट के हो जाएंगे जल्द ही फुटबॉल मुकाबले

Football
बदलेगा सबसे पॉपुलर खेल, 60 मिनट के हो जाएंगे जल्द ही फुटबॉल मुकाबले

डेढ़ घंटे से भी ज्यादा समय तक चलने वाले फुटबॉल मुकाबलों को घटाकर 60 मिनट का करने के साथ कई बड़े बदलाव करने की तैयारी है।

नई दिल्ली। जल्द ही आपको विश्व स्तर पर फुटबॉल की शक्ल बदली हुई नजर आएगी। डेढ़ घंटे से भी ज्यादा समय तक चलने वाले फुटबॉल मुकाबलों को घटाकर 60 मिनट का करने की तैयारी है। इसके अलावा भी तमाम तरह के बदलाव इस खेल को और ज्यादा रोचक व साफ-सुथरा बनाने के लिए करने की तैयारी है।

Photo published for RECAP: Transfer news for Arsenal, Chelsea, Spurs and West Ham

विश्व फुटबॉल के नियम तैयार करने वाली संस्थान द इंटरनेशनल फुटबॉल एसोसिएशन बोर्ड (आईएफएबी) ने इसका खाका तैयार कर लिया है और कन्फेडरेशंस कप फुटबॉल के दौरान 'प्ले फेयर' के नाम से तैयार इसका ड्राफ्ट विश्व फुटबॉल की सर्वोच्च संस्था फीफा के सामने पेश किया जाएगा।



गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, प्ले फेयर नाम देने के तीन उद्देश्य हैं, खिलाडिय़ों का व्यवहार सुधारना और उनमें आदर की भावना बढ़ाना तथा खेल का समय व इसका आकर्षण बढ़ाना। टाइम घटाने के पीछे आईएफएबी ने उन रिसर्च को कारण बताया है, जिनके अनुसार, 90 मिनट के खेल समय वाले मैचों में वास्तविक तौर पर सिर्फ 60 मिनट ही खेल होता है यानि बाकी 30 मिनट टीमें खराब करती हैं। ऐसे में बहुत सारे मैच बोझिल जैसे हो जाते हैं। 60 मिनट का खेल होने पर मैच की स्पीड बढ़ेगी और खराब किए जाने वाले समय में भी टीमों को कमी लानी होंगी।



आईएफएबी की तरफ से लाए जाने वाले बदलावों के प्रस्ताव में कुछ को बिना किसी नियम में बदलाव किए सीधे तौर पर तत्काल लागू किया जा सकता है, जबकि कुछ बदलावों के लिए हमें प्रयोग के लिए तैयार रहना चाहिए और कुछ के लिए आपस में बातचीत करनी चाहिए।



ये हो सकते हैं बदलाव
- 30-30 मिनट के हो जाएंगे दोनों हाफ, मैच होगा 90 के बजाय 60 मिनट का
- रेफरी का काम सिर्फ हाफ टाइम और फुल टाइम के लिए सीटी बजाने का होगा
- रेफरी का बाकी सभी तरह का काम वीडियो रिप्ले के जरिए बाहर से होगा
- गोलकीपर भी इनसाइड एरिया में सामान्य खिलाड़ी की तरह गोल किक को खेल पाएगा
- गोलकीपर ने बैकपास पर मिली गेंद को हाथ लगाया तो पेनल्टी गोल
- किसी खिलाड़ी ने गेंद को लाइनों के अंदर हाथ लगाया तो पेनल्टी गोल
- पेनल्टी किक लेने पर मौका मिस होने की हालत में दूसरा चांस नहीं
- पेनल्टी किक लेने वाली टीम का खिलाड़ी शॉट से पहले पेनल्टी एरिया में घुसा तो किक मिस मानी जाएगी
- इसी तरह रक्षा कर रही टीम का खिलाड़ी पहले ही पेनल्टी एरिया में घुसा और शॉट मिस हुई तो दोबारा मौका दिया जाएगा
- फ्री किक या कॉर्नर्स लेने के दौरान खिलाड़ी खुद सीधा लंबा शॉट लगा पाएगा, अभी इसे दूसरे खिलाड़ी को पास करना पड़ता है

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned