आईजोल ने रचा इतिहास, जीता आई-लीग खिताब

Football
आईजोल ने रचा इतिहास, जीता आई-लीग खिताब

टीम ने सीजन का अंत 18 मैचों में 37 अंक के साथ किया।

शिलांग। आईजोल एफसी ने रविवार को शिलांग लाजोंग एफसी को 1-1 की बराबरी पर रोकते हुए इस साल का आई-लीग खिताब जीत लिया है। आईजोल ने इसके साथ ही इतिहास भी रच दिया और आई-लीग खिताब जीतने वाला पूर्वोत्तर भारत का पहला क्लब बन गया है।

खिताब जीतने को चाहिए था सिर्फ ड्रॉ
आईजोल को आई-लीग अपने नाम करने के लिए लाजोंग के खिलाफ  सिर्फ ड्रॉ खेलना था, लेकिन लाजोंग ने पहला गोल करते हुए आईजोल की मुश्किलें बढ़ा दी थीं। लाजोंग के लिए मैच का पहला गोल नौवें मिनट में सेंटर फारवर्ड एसेर पेरेक डिपांडा ने हेडर के जरिए एक बेहतरीन गोल किया।

इसके बाद आईजोल ने अपने खेल का स्तर ऊंचा किया और हावी रहा। उसके लिए बराबरी का गोल 67वें मिनट में विलियन लालरूनफेला ने किया है। कोच खालिद जमील की इस टीम ने सीजन का अंत 18 मैचों में 37 अंक के साथ किया, जो मोहन बागान के 36 अंक से एक अंक ज्यादा है। आइजोल ने इस दौरान 11 मैच जीते और 24 गोल किए। वे सिर्फ तीन ही मैच हारे।

भाग्य के सहारे मिली थी एंट्री
पिछले सीजन में 8वें नंबर पर रहने के कारण इस बार आईजोल को एलिमिनेट होना था, लेकिन उसे भाग्य का साथ मिला और वो आईलीग में एंट्री पा गए। दरअसल गोवा के कई क्लबों ने इस बार आईलीग से अपना नाम वापस ले लिया था, जिसके चलते आईजोल को खेलने का मौका दिया गया और उसने इतिहास रच दिया।

दो दशक का टॉप क्लबों का वर्चस्व तोड़ा
देश की इस सबसे बढिय़ा लीग में पिछले दो दशक से भी ज्यादा समय से कुछ टॉप क्लबों का ही वर्चस्व बना हुआ था और सीजन दर सीजन खिताब सिर्फ ईस्ट बंगाल, मोहन बागान, जेसीटी, सालगांवकर, डेम्पो और बेंगलूरु एफसी के बीच ही बंटता रहा है। लेकिन इस बार आईजोल ने ये वर्चस्व तोड़ दिया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned