सालों बाद तबेले में संचालित हो रहे स्कूल की सुध लेने पहुंचे शिक्षा अधिकारी

Gariaband, Chhattisgarh, India
सालों बाद तबेले में संचालित हो रहे स्कूल की सुध लेने पहुंचे शिक्षा अधिकारी

हसील मुख्यालय से लगभग 34 किमी दूर बीहड़ जंगल के अंदर ग्राम धंवईभर्री में स्कूल भवन के अभाव में लकड़ी व घासफूस की तबेलानुमा झोपड़ी में संचालित हो रही शासकीय प्राथमिक शाला की सुध लेने विकासखंड शिक्षा अधिकारी पहुंचे

गरियाबंद/मैनपुर. तहसील मुख्यालय से लगभग 34 किमी दूर बीहड़ जंगल के अंदर ग्राम धंवईभर्री में स्कूल भवन के अभाव में लकड़ी व घासफूस की तबेलानुमा झोपड़ी में संचालित हो रही शासकीय प्राथमिक शाला की सुध लेने विकासखंड शिक्षा अधिकारी विजय कुमार लहरे पहुंचे। ग्राम धंवईभर्री स्कूल पहुंचने पर वहां घासफूस व लकड़ी से बने दस बाई दस के तबेलेनुमा झोपड़ी में स्कूली बच्चों को पढ़ाई करते देखा। यहां कुल दर्ज संख्या 18 है, लेकिन 15 बच्चे उपस्थित मिले। दो शिक्षकों में एकमात्र शिक्षक बच्चों को पढ़ाते पाए गए।

पहली बार कोई विकासखंड स्तर के अधिकारी इस स्कूल में पहुंचे तो ग्रामीणों ने बताया कि पिछले दस वर्षो से यहां प्राथमिक शाला संचालित किया जा रहा है, लेकिन अबतक भवन का निर्माण नहीं किया गया है। बच्चे पेड़ के नीचे पढ़ाई करने विवश हो रहे थे, तो ग्रामीणो ने श्रमदान कर लकड़ी व घासफूस से एक छोटे से झोपड़ी बनाकर वहां स्कूल संचालित करवा रहे हैं, लेकिन बारिश के दिनो में यहां पढ़ाई नहीं हो पाती है। बारिश का पानी स्कूल के अंदर घुस जाता है। हमेशा सर्प बिच्छु जहरीले जीव जन्तु का डर बना रहता है। ग्रामीणों की मांगो को गंभीरता से सुन विकासखंड शिक्षा अधिकारी विजय कुमार लहरे ने उन्हें आश्वस्त किया कि नवीन प्राथमिक शाला भवन निर्माण के लिए उनके द्वारा आला अधिकारियों को मामले से अवगत कराकर जल्द स्कूल भवन निर्माण करवाने की बात कही है।

अनुशासनहिनता पर लगाई फटकार
विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने क्षेत्र के अनेक स्कूलों का निरीक्षण किया। इस दौरान प्राथमिक शाला ढोलसरई के स्कूली बच्चे व शिक्षक रोड में घुमते पाए गए। जिस पर शिक्षक महेन्द्र यादव को फटकार लगाते हुए शाला वापस भेजा गया। अनुपस्थित शिक्षक श्रवण देवान को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। प्राथमिक शाला चिपरी, छिन्दभट्टी में एक शिक्षक अभय लाल मरकाम लंबे समय से अनुपस्थित पाए गए, जिन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इस दौरान शिक्षक दैनंदनिय एवं पाठ्यक्रम नहीं मिला, इसके लिए चेतावनी देते हुए संधारित करने के निर्देश दिए गए हैं।

चिरायु दल को लिखा पत्र
विद्यालय में सरस्वती नामक छात्रा मोतियांबिंद से ग्रसित है तथा जानकी नामक छात्रा पैर से विकलांग है, जिनका राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य अंतर्गत ईलाज के लिए चिरायु दल को पत्र लिखा गया। विकलांगता प्रमाण पत्र बनवाने शिक्षक को निर्देशित किया गया। माध्यमिक शाला गरहाडीह में भृत्य कलाबाई अनुपस्थित पाई गई। मध्ह्नान भोजन में एक सप्ताह से सब्जी नहीं दिए जाने की शिकायत मिली, प्राथमिक शाला गेदराबेड़ा में शिक्षक आंनंद राम जगत 4 जनवरी से 11 जनवरी तक अनुपस्थित पाया गया। वहीं शाला भवन का निर्माणाधीन अतिरिक्त कमरा अधूरा है, विगत छह माह से निर्माण कार्य बंद है। जिम्मेदार शिक्षकों को  तत्काल निर्माण कार्य प्रारंभ करवाने के निर्देश दिए। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned