अमरनाथ बस हादसा: देर रात गाजियाबाद के जितेन्द्र का शव पहुंचा घर, अंतिम संस्कार में मचा कोहराम 

Noida, Uttar Pradesh, India
अमरनाथ बस हादसा: देर रात गाजियाबाद के जितेन्द्र का शव पहुंचा घर, अंतिम संस्कार में मचा कोहराम 

ग्रामिणों ने नम आंखों से जितेन्द्र को दी अंतिंम विदाई 

गाजियाबाद. अमरनाथ यात्रा पर जाते समय बस खाई में गिरने से हुई श्रद्घालु जितेन्द्र की मौत के बाद सोमवार की देर रात उसका शव गांव शेरपुर पहुंचा। जहां परिजनों में कोहराम मच गया। वहीं ग्रामीणों की आंखे भी भर आई। 


बाद में देर रात गमगीन माहौल में जितेन्द्र का अंतिम संस्कार कर दिया गया। बता दें कि निवाड़ी थाने में शेरपुर गांव निवासी जितेन्द्र(34), धीरज (37) व मोदीनगर की इंदिरापुरी कॉलोनी में रहने वाले रविन्द्र 14 जुलाई को अमरनाथ यात्रा पर गए थे। रविवार सवेरे उन्होंने जम्मू पहुंचकर अपने परिजनों को फोन कर बताया था कि वह अमरनाथ को जाने वाली बस में बैठ गए है। लेकिन शाम को उनके परिवार के लोगों को सूचना मिली कि बस जम्मू के नाचिलाना इलाके में सतुंलन बिगड़ने के चलते खाई में गिर गई। 

हादसे में जितेन्द्र की मौत हो गई है। जबकि धीरज व रविन्द्र गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। हादसे की जानकारी मिलने के बाद जहां जितेन्द्र के परिजनों में कोहराम मच गया। वहीं वह जम्मू के लिए रवाना हो गए। सोमवार की रात जितेन्द्र का शव ग्राम शेरपुर पहुंचा तो परिजनों का बुरा हाल हो गया। ग्रामीणों की आंखे भी भर आई। रिश्तेदारों, जान पहचान वालों तथा ग्रामीणों ने किसी तरह जितेन्द्र के परिजनों को संभाला। इसके बाद वह देर रात गांव के श्मशान घाट पर गमगीन माहौल में जितेन्द्र का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

पूरी न हो पाई संतान की चाह

ग्रामीणों ने बताया कि जितेन्द्र इलेक्ट्रोनिक्स का काम करता था। उसकी पांच वर्ष पूर्व टिंकल से शादी हुई थी। लेकिन उन्हें संतान का सुख नही मिला। संतान की चाहत लिए ही जितेन्द्र अमरनाथ यात्रा पर गया था, मगर किसी को क्या पता था कि उसकी यह यात्रा जीवन की अंतिम यात्रा होगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned