संयुक्त जिला अस्पताल का हाल है बेहाल, पढ़ें पूरी खबर

Noida, Uttar Pradesh, India
संयुक्त जिला अस्पताल का हाल है बेहाल, पढ़ें पूरी खबर

यहां दवाईयों की है किल्लत, पढ़ें पूरी खबर

गाजियाबाद। संयुक्त जिला अस्पताल बजट के अभाव में बीमार हो गया है। पिछले पांच महीनों से अब कोई बजट अस्पताल को नहीं मिला है। इसकी वजह से दवाई और एक्स रे प्लेट खत्म हो गई है। सूत्रों के मुताबिक कर्मचारियों को भी पिछले दो महीने से सैलरी नहीं मिली है। इसकी वजह से कर्मचारियों का गुस्सा कभी फूट सकता है।

अस्पताल में दवाईयों के लिए 35 लाख का बजट आना था जो महज 13 लाख ही आया। एमएमजी अस्पताल को भी कुल बजट का महज 40 फीसदी ही हासिल हुआ। बजट की कमी के चलते एक्स-रे के लिए उपयोग की जानी वाली बड़ी प्लेटें भी खत्म हो गई हैं। बड़ी प्लेटों से छाती, पेट व कूल्हों का एक्स-रे लिया जाता है। नई प्लेटें भी बजट की बांट जोह रही हैं। दवाईयों और उपकरणों की कमी के साथ चतुर्थ श्रेणी के करीब 50 कर्मचारियों को 2 महीनों से मेहनताने का इंतजार है। सरकारी लापवाही के चलते इन के वेतन पर रोक लगा दी गई है।

दरअसल केन्द्र सरकार मानव संपदा योजना के तहत एक सॉफ्टवेयर तैयार कर रही है। जिसमें सभी कर्मियों का डाटा सुरक्षित रखा जाएगा। इस योजना के तहत पूरे देश में उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग को पायलेट प्रोजेक्ट के तहत चुना गया है। मानव संपदा योजना के तहत 1 जनवरी से सभी कर्मचारियों का डाटा पहुंच जाना चाहिए था। इसके लिए कर्मचारियों से तमाम प्रमाण पत्र पर कागजात भी जमा करा लिए गए। लेकिन कई कर्मचारियों के डाटा गलत मिलने के बाद। उनके वेतन तब तक रोक लिया गया जब तक कि सही जानकारी नहीं पहुंचा दी जाती। इसी पूरी प्रक्रिया में फंस कर करीब 50 कर्मचारियों का 2 महीने का वेतन रूका पड़ा है।

सीएमओ ने खुद इस बात को स्वीकार किया अगर जल्द ही इस मुद्दे को नहीं सुलझाया गया तो कर्मचारी हड़ताल पर जा सकते हैं। जिससे मरीजों को तो दिक्कतों का सामना करना ही पड़ेगा, अस्पताल भी भारी अव्यवस्था की चपेट में आ जाएगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी दिनेश शर्मा ने बताया कि अक्टूबर में दवाईयों के लिए जारी की गई धनराशि 60 फीसदी कटौती के साथ हासिल हुई। हर तिमाही में 35 लाख रुपये दवाईयों के लिए आवंटित किए जाते हैं। लेकिन अक्टूबर में जारी की गई राशि महज 13 लाख रुपये थी। अब जबकि यह राशि खत्म होने को है। अगली राशि कब आवांटित होगी इसका जवाब उनके पास भी मौजूद नहीं है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned