ताउम्र नहीं भूल सकता तीन सौ महिलाओं द्वारा दी गई वह भेंट

Noida, Uttar Pradesh, India
ताउम्र नहीं भूल सकता तीन सौ महिलाओं द्वारा दी गई वह भेंट

प्रत्याशी बोले- इस चुनाव में हुई ऐसी घटनाएं जो जिंदगी भर रहेंगी याद

गाजियाबाद. जिले में 11 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान संपन्न हो गया। इस विधानसभा चुनाव में कई ऐसे उम्मीदवार थे जिनका यह पहला चुनाव था तो कई ऐसे थे जो पहले भी किस्मत आजमा चुके हैं। गाजियाबाद जनपद की सबसे खास सीटों में से शामिल मुरादनगर विधानसभा के लिए पत्रिका उत्तर प्रदेश ने भाजपा और बसपा के प्रत्याशियों से बातचीत की। इस चुनाव में दोनों के बीच में खासा मुकाबला रहा।

बीजेपी के प्रत्याशी ने पहली बार लड़ा विधानसभा चुनाव

अजीत पाल त्यागी ने अपने जीवन का पहला विधानसभा चुनाव मुरादनगर सीट से भाजपा के टिकट पर लड़ा। इससे पहले अजीत पाल त्यागी जिला पंचायत सदस्य और जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ कर जीत चुके थे। जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव तो वह र्निविरोध जीते थे। मुरादनगर सीट अजीत पाल त्यागी के परिवार की पारंपरिक सीट मानी जाती है। उनके पिता राजपाल त्यागी यहां से आधा दर्जन बार विधायक रहे हैं प्रदेश सरकार में मंत्री भी रहे हैं।

बसपा प्रत्याशी खेल चुके हैं कई पारी

मुरादनगर से बीजेपी प्रत्याशी अजीत पाल त्यागी के सामने बसपा से सुधन रावत मैदान में हैं। सुधन रावत को चुनाव लड़ने का लंबा अनुभव है। उन्होंने अभी हाल ही में लोकसभा और मेयर का उपचुनाव लड़ा था। मगर इस चुनाव में ऐसी कई चीजें थीं जो रावत को लंबे समय तक याद रहेंगी।

कार्यकर्ताओं का अपनापन रहा यादगार

अजीत पाल त्यागी के मुताबिक ये उनका पहला विधानसभा चुनाव है। अनुभव की बात की जाए तो 20 साल से लोगों के बीच में रहा हूं। हर गांव और शख्स जाना पहचाना हुआ है। शहर में ऐसी कोई गली नहीं जहां का पता न मालूम हो। पहले पिताजी के चुनाव में वोट मांगने जाते थे अब अपने लिए जनता के बीच गए। जनता ने पार्टी कार्यकर्ताओं ने जो अपनापन दिखाया, जो प्यार दिया उसका वर्णन करने के लिए शब्द ही नहीं हैं। बीजेपी के वोट बैंक के साथ पिता के समर्थक जीत में अहम भूमिका निभाएंगे।

महिलाओं ने की दस-दस की मिलाई

सुधन रावत बताते हैं कि चुनाव प्रचार के दौरान रेवड़ी गांव में जाना हुआ। मुझे किसी बात का आभास ही नहीं था कि वहां गांव की महिलाएं आरती उतार कर मेरा स्वागत करेंगी। करीब तीन सौ महिलाओं ने उनको दस-दस रुपए भेंट दिए जो उन्होंने संभाल कर रख लिए हैं। जनता के समर्थन ने जज्बा बढ़ा दिया है। जनता के सहयोग को भुलाया नहीं जा सकता।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned