सीरिया में रासायनिक हमला, बच्चों समेत 68 लोगों की मौत

Gulf
सीरिया में रासायनिक हमला, बच्चों समेत 68 लोगों की मौत

सीरिया में मंगलवार को हुए एक कथित रसायनिक हमले में 68 लोगों की मौत हो गई। मीडिया रिपोर्ट मेडिकल टीम के हवाले से कहा गया है कि ऐसा लगता है कि है कि लोगों की मौत दम घुटने से हुई। 

दमिश्क. सालों से गृह युध्द की आग में झुलस रहे सीरिया में मंगलवार को हुए एक कथित रासायनिक हमले में 68 लोगों की मौत हो गई, जबकि 400 से ज्यादा लोग इस गैस हमले से पीड़ित बताए रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट में मेडिकल टीम के हवाले से कहा गया है कि ऐसा लगता है कि है कि लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। मरने वालों में कई बच्चे भी शामिल हैं। हमले में मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है, क्योंकि भारी संख्या में लोगों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा हैं। सीरियन ऑब्जरवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स (एसओएचआर) ने बताया कि हमला इदलिब प्रांत के खान शयखुन कस्बे में किया गया है। बताया जाता है कि यह हमला एयर स्ट्राइक्स के जरिए की गई थी। सीरिया में मौजूद ब्रिटिश मानव अधिकारों की ऑब्जरवेटरी संस्था के मुताबिक लोगों की मौत किसी जहरीली गैस से हुई है और इसकी वजह से अब भी कई लोगों को सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, संस्था ने अभी तक गैस के पहचानने की पुष्टि नहीं की है।


100 लोगों के भी मारे जाने का दावा
इस बीच, सीरिया में विपक्षियों की उच्च स्तरीय वार्ता समिति ने ट्विटर पर दावा किया कि इस हमले में करीब 100 लोगों की मौत हुई। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि हमले के लिए इस्तेमाल किए गए विमान सीरियाई थे या सरकार के सहयोगी रूस के? इससे पहले मंगलवार को एक फेसबुक पोस्ट में कहा गया था कि क्लोरीन गैस वाले चार थर्मोबेरिक बम गिराए गए। रासायनिक हमले की यह रिपोर्ट सीरिया के भविष्य को लेकर ब्रसेल्स में दो दिवसीय सम्मेलन शुरू होने से पहले आई है, जिसका आयोजन यूरोपीय संघ व संयुक्त राष्ट्र की मेजबानी में हो रहा है।

तुर्की ने सीरिया हमले को शांति के लिए बताया खतरा
रासायनिक हमले के बाद तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यिप एर्दोगन ने अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर मंगलवार को बात की। इस दौरान उन्होंने इस "अमानवीय" बताते हुए निंदा की। उन्होंने कहा कि इससे कजाकिस्तान की राजधानी में प्रस्तावित शांति वार्ता खतरे में पड़ सकता है। राष्ट्रपति एर्दोगन ने कहा कि इस तरह के अमानवीय हमले अस्वीकार्य हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि इससे माले के असैन्य हल की प्रक्रिया ध्वस्त हो जाएगी, यह सीरिया में शांति लाने के प्रयासों के लिए खतरा पैदा कर सकता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned