जानें, पीएम मोदी का सऊदी शाह को दी गई मस्जिद क्यों है खास

Gulf
जानें, पीएम मोदी का सऊदी शाह को दी गई मस्जिद क्यों है खास

इस मस्जिद में एक प्राचीन प्रज्जवलित दीपक है और ऐसा माना जाता है कि यह दीपक हजारों वर्षों से प्रज्जवलित है, आज भी सभी धर्मों के लोग अपनी भेंट के रूप में इस पवित्र दीपक में डालने के लिए तेल लेकर आते हैं

रियाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सौद को भारत के केरल की चेरामन जुमा मस्जिद की स्वर्ण अलंकृत प्रतिकृति उपहार स्वरूप भेंट की। उपहार स्वरूप दी गई यह प्रतिकृति सोना चढ़ी हुई है।

केरल के थिरूस्सर जिले में स्थित इस मस्जिद के बारे में ऐसा माना जाता है कि यह भारत में बनी पहली मस्जिद है जिसका निर्माण 629 सदी के आसपास अरब व्यापारियों ने कराया था। इसे भारत और सऊदी अरब के बीच सक्रिय व्यापार संबंधों के प्रतीक के रूप में देखा जाता है।

मौखिक परम्परा के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि पैगम्बर के समकालीन चेर राजा चेरामन पेरूमल ने अपनी अरब यात्रा के दौरान मक्का में पवित्र पैगम्बर से हुई भेंट के बाद इस्लाम अपना लिया था। कुछ वर्षों बाद उन्होंने अपने मित्रों मलिक बिन दीनार और मलिक बिन हबीब के माध्यम से अपने परिजनों और मालाबार के सत्तारूढ़ सामंतों को पत्र भेजे और इसके बाद कोंडूगल्लूर में स्थानीय शासकों द्वारा वहां मस्जिद के निर्माण की अनुमति दे दी गई।

इसमें बताया गया कि इस मस्जिद में एक प्राचीन प्रज्जवलित दीपक है और ऐसा माना जाता है कि यह दीपक हजारों वर्षों से प्रज्जवलित है। आज भी सभी धर्मों के लोग अपनी भेंट के रूप में इस पवित्र दीपक में डालने के लिए तेल लेकर आते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned