सीरिया पर अमरीकी हमला: रूस ने दी परिणाम भुगतने की चेतावनी

Gulf
सीरिया पर अमरीकी हमला: रूस ने दी परिणाम भुगतने की चेतावनी

सीरिया में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के बाद अमरीका ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सीरियाई सैन्यअड्डों पर 59 टॉमहॉक मिसाइलें दागी। सीरिया पर अमरीकी हमले से दुनिया की दो महाशक्ति आमने-सामने होती नजर आ रही है। अब तक सीरिया का साथ दे रहे रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि यह हमला एक संप्रभु देश पर आक्रमण और अंतर्राष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है। इसके साथ ही रूस ने अमरीका को चेतावनी दी है कि इससे अमरीका और रूस के संबंध और बिगड़ेंगे।

दमिश्क. सीरिया में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के बाद अमरीका ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सीरियाई सैन्यअड्डों पर 59 टॉमहॉक मिसाइलें दागी। सीरिया पर अमरीकी हमले से दुनिया की दो महाशक्ति आमने-सामने होती नजर आ रही है। अब तक सीरिया का साथ दे रहे रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि यह हमला एक संप्रभु देश पर आक्रमण और अंतर्राष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है। इसके साथ ही रूस ने अमरीका को चेतावनी दी है कि इससे अमरीका और रूस के संबंध और बिगड़ेंगे। वहीं, सीरिया ने भी गुरुवार रात हुए इन हमले को 'अमरीकी आक्रामकता' बताया है। गौरतलब है कि सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार के खिलाफ अमेरिका ने पहली बार प्रत्यक्ष सैन्य हमला किया है।

रूस ने दी 'नकारात्मक परिणाम भुगतने' की चेतावनी
रूस ने मिसाइल दागे जाने से कुछ मिनट पहले ही अमरीका को सीरिया पर सैन्य हमले के 'नकारात्मक परिणाम भुगतने' की चेतावनी दी थी। अमरीकी सैन्य कार्रवाई में छह सीरियाई सैनिकों की मौत हो गई और सीरिया के मध्य प्रांत होम्स में शेरत सैन्यअड्डे को भारी क्षति पहुंची है। अमरीकी सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि ये हमले सीरिया सैन्यअड्डे के रनवे, विमानों और ईंधन भंडारण ठिकानों को निशाना बनाकर किए गए। ये मिसाइलें पूर्वी भूमध्यसागर से युद्धपोतों से दागी गईं।

सीरिया ने अमरीका व इजरायल पर लगाया आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप
होम्स के गवर्नर तलाल बजारीर ने अमरीका और इजरायल पर सीरिया में आतंकवादी संगठनों की मदद करने का आरोप लगाया है। सीरिया के विदेश मंत्री वालिद अल-मुअल्लम ने कहा कि इन रासायनिक हमलों हम पर आरोप लगाने से सिर्फ इजरायल को लाभ होगा।

ट्रंप ने हमले को अमरीका के हित में उठाया गया कदम बताया 
ट्रंप ने इससे पहले कहा था कि सीरिया पर टॉमहॉक हमला अमरीका के हित में है। ट्रंप ने मार-ए-लागो में संवाददाताओं से कहा कि सीरिया सरकार ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के आग्रहों की अनदेखी की। गौरतलब है कि अमरीका ने सीरिया में हुए रासायनिक हमले के लिए असद सरकार को जिम्मेदार ठहराया था। इस हमले में 75 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि सीरिया इन आरोपों को झूठ बताता है। ट्रंप ने इससे पहले सीरिया पर हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि उन्होंने सीरिया में हुए रासायनिक हमलों पर कड़ा रुख अपनाते हुए सीरिया सरकार के खिलाफ एकतरफा सैन्य कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। ट्रंप ने कहा कि अमरीका के लिए इस तरह के घातक रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को रोकना जरूरी है। ट्रंप ने 'सभी सभ्य देशों' से सीरिया में रक्तपात रोकने की दिशा में काम करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इस पर कोई विवाद ही नहीं है कि सीरिया ने प्रतिबंधित रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल कर रासायनिक हथियार संकल्प के तहत नियमों का उल्लंघन किया है और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अपीलों को खारिज किया है। ट्रंप ने कहा कि असद के व्यवहार को बदलने के लिए वर्षों के प्रयास बुरी तरह से असफल रहे हैं।




Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned