#CASHLESSBANKING: किसानों को धोखाधड़ी से बचाने आधारकार्ड बनेगा ब्रह्मास्त्र

Gwalior, Madhya Pradesh, India
 #CASHLESSBANKING: किसानों को धोखाधड़ी से बचाने आधारकार्ड बनेगा ब्रह्मास्त्र

इसके लिए प्रत्येक गांव में कंप्यूटर के जरिए पहले प्रशिक्षण दिया जाएगा, इसके साथ ही आधार कार्ड को एकाउंट से लिंक करके थंब के सहारे कैशलैस ट्रांजेक्शन की तकनीक काम में लाई जाएगी।


ग्वालियर। किसान पढ़ा लिखा नहीं है, उसके पास एटीएम या क्रेडिट कार्ड भी नहीं है, तो भी उसको अब कैशलैस बैंकिंग में परेशानी नहीं आएगी। नोटबंदी से निजात दिलाने के लिए अब आधार को भी माध्यम बनाया जाएगा।

इसके लिए प्रत्येक गांव में कंप्यूटर के जरिए पहले प्रशिक्षण दिया जाएगा, इसके साथ ही आधार कार्ड को एकाउंट से लिंक करके थंब के सहारे कैशलैस ट्रांजेक्शन की तकनीक काम में लाई जाएगी। कलेक्टर का कहना है कि इससे किसानों के साथ धोखाधड़ी की संभावना न के बराबर  हो जाएगी। इसके लिए सभी किसानों को प्रोत्साहित किया जाएगा कि वे आधार कार्ड से अपना खाता लिंक कराएं और फिर बैंक की लाइन से पूरी तरह से बच जाएंगे।

           

कैशलैस बैंकिंग के तरीकों को सभी जगह लागू करने को लेकर केन्द्र सरकार और नीति आयोग से आए निर्देशों के बाद कलेक्ट्रेट में अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में जिला पंचायत सीईओ नीरज कुमार सिंह, अपर कलेक्टर विवेक श्रोत्रिय, लीड बैंक ऑफिस सहित अन्य बैंकर्स और अधिकारी मौजूद थे।


  

बैठक में प्रभारी कलेक्टर ने निर्देश देते हुए कहा कि कैशलैस व्यवस्था के लिए सभी अधिकारियों को प्रत्येक सोमवार समन्वय समिति की बैठक में प्रक्रिया का प्रस्तुतिकरण करना होगा। इसके साथ ही कॉलेज, स्कूल में यह जानकारी देने के लिए एक नोडल अधिकारी भी नियुक्त किया जाएगा। स्टूडेंट को जोडऩे से यह अभियान जल्द से जल्द आम लोगों तक पहुंच सकेगा।
  • सबकी पहुंच मे मौजूद इस पहचान पत्र को खाते से लिंक कराया जाएगा।
  • जिनके पास एटीएम, क्रेडिट कार्ड नहीं है, उनको सुविधा मिलेगी।
  • पहचान पत्र को लिंक करके उसी से बैंकिंग प्रक्रिया को आसान किया जाएगा
  • थंब से लेनदेन  की प्रक्रिया पूरी होने से धोखाधड़ी होने की गुंजाइश न के बराबर होगी।
  •   एटीएम (डेबिट) कार्ड , क्रेडिट , कार्ड, मोबाइल , पेटीएम इंटरनेट बैंकिंग
 

कैशलेस बैंकिंग की प्रक्रिया को और आसान बनाने के लिए नीति आयोग से निर्देश आए थे। उसी के आधार पर जानकारी इकट्ठी करने के लिए बैठक हुई थी। आधार को लिंक करने के लिए तकनीकी तौर पर काम चल रहा है।  
शिवराज वर्मा, प्रभारी कलेक्टर 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned