पैसों के लिए सगी बहन ने मासूम के साथ कराया गैंग रैप

Gwalior, Madhya Pradesh, India
 पैसों के लिए सगी बहन ने मासूम के साथ कराया गैंग रैप

पहले तो कुदरत ने मासूम के माता-पिता छीन लिए। फिर बड़ी बहन ने जिस प्रकार उससे हैवानियत का खेल खेला वह रोंगटे खड़े कर देने वाला है। कोई सोच भी नहीं सकता की सगी बहन चंद पैसों के लिए अपनी ही बहन पर इतना कहर ढा सकती है।

ग्वालियर. पहले तो कुदरत ने मासूम के माता-पिता छीन लिए। फिर बड़ी बहन ने जिस प्रकार उससे हैवानियत का खेल खेला वह रोंगटे खड़े कर देने वाला है। कोई सोच भी नहीं सकता की सगी बहन चंद पैसों के लिए अपनी ही बहन पर इतना कहर ढा सकती है। मासूम के शरीर को न सिर्फ जीजा ने नोंचा बल्कि बुजुर्ग एयरफोर्स कर्मी सहित दो अन्य लोगों से भी नुचवाया। मासूम इनकार करती तो उसे चिलचिलाती धूप में छत पर खड़ा करके घिनौने कृत्य के लिए राजी किया जाता।
यह तो भला हो किसी अज्ञात व्यक्ति का, जिससे मासूम का दर्द देखा नहीं गया और उसने चाइल्ड लाइन को खबर देकर मासूम को उनके चंगुल से मुक्त करवाया। यह घटना यह सोचने को मजबूर करती है कि आखिर विश्वास किस पर करें।
मामला मासूम बालिका के साथ गैंगरेप का है, जिसकी पीड़ा सुनकर महाराजपुरा थाना पुलिस ने चार लोगों पर दुष्कर्म का मामला दर्ज किया।  पुलिस के मुताबिक मासूम पीडि़ता के माता-पिता का निधन हो चुका है। करीब एक साल पहले बड़ी बहन और जीजा उसे डीडी नगर स्थित अपने घर ले आए। उसी मकान में एयरफोर्स कर्मचारी ईश्वर लाल भी रहता था। यहीं से शुरू हुआ मासूम से घिनौने कृत्य का खेल। अर्जुन और ईश्वरलाल आए दिन मासूम से दुष्कर्म करते। दो अन्य लोग भी इनके घर आते और मासूम से दुष्कर्म करते। बच्ची विरोध करती तो दीदी और जीजा उसे धूप में खड़ा करके पीटते। आरोप है कि दोनों इसके लिए ईश्वरलाल और अन्य से पैसे भी लेते थे।
ऐसे खुला राज
30 मार्च को चाइल्ड लाइन के दफ्तर में किसी अज्ञात व्यक्ति का फोन आया। उसने मासूम पर हो रहे अत्याचार के बारे में बताया।  खबर मिलते ही टीम के सदस्य उस घर का मुआयना कर लौट आए। 31 मार्च को बाल अपराध शाखा, चाइल्ड लाइन और महिला बाल विकास की टीम ने घर में दबिश दी। मासूम को मुक्त कराकर अपने साथ लाए।
पुलिस की लापरवाही
चाइल्ड वेलफेयर कमेटी  ने 3 अप्रैल को महाराजपुरा थाने को खबर दी थी, लेकिन पुलिस ने  एफआईआर दर्ज नहीं की। बुधवार को मासूम ने मातृछाया अधीक्षक के सामने सच्चाई बयां की तो वे दंग रह गए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned