भिण्ड में दुल्हन को लेने हेलीकॉप्टर से आया दूल्हा 

Gwalior, Madhya Pradesh, India
  भिण्ड में दुल्हन को लेने हेलीकॉप्टर से आया दूल्हा 

भिण्ड के गोरमी नगर के वार्ड नंबर छ: में गुरुवार को शानोशौकत भरा विवाह समारोह हुआ,जिसमें ग्वालियर से दूल्हा, अपनी दुल्हन को  हेलीकॉप्टर से लेने आया

ग्वालियर/ भिण्ड. पौते से दादाजी ने कहा कि बहू घर आएगी तो उडऩखटोले में। बस दादा की यही इच्छा को पूरा करने के लिए महलगांव में रहने वाले रतीराम शर्मा का पोता सचिन शर्मा ने किराया से हेलीकॉप्टर मंगाया और बुधवार की शाम को भिण्ड के गोरमी में अपनी जीवनसाथी को लाने के लिए वहां गया।

 ग्वालियर के महलगांव में रहने वाले रतीराम शर्मा का पोता सचिन की शादी भिंड के गोरमी निवासी नेकराम शर्मा की बेटी निधि से तय हुई। बुधवार की शाम को हेलीकॉप्टर में सवार होकर सचिन अपने परिजनों सहित गोरमी में बरात लेकर पहुंचा और वहां से गुरुवार को विदा कराकर हेलीकॉप्टर से ही ग्वालियर आया। 


हेलीकॉप्टर को देखने उमड़ी लोगों की भीड़़ 

भिण्ड के गोरमी नगर के वार्ड नंबर छ: में गुरुवार को शानोशौकत भरा विवाह समारोह हुआ,जिसमें ग्वालियर से दूल्हा, अपनी दुल्हन को  हेलीकॉप्टर से लेने आया। बिदा कराने के लिए पहली बार आए हेलीकॉप्टर को देखने के लिए हजारों लोगों की भीड़ जुट गई। 


पुलिस जवानों की सुरक्षा में खड़ा रहा हेलीकॉप्टर 
ग्वालियर के सिटी सेन्टर महलगांव निवासी द्वारिकाप्रसाद शर्मा के पुत्र सचिन शर्मा का रिश्ता गोरमी नगर के शिक्षक नेकराम शर्मा की बेटी निधि के साथ तय हुआ। बुधवार को लगभग 500 लोगों की बारात वाहनों से गोरमी आई पर दूल्हा सचिन एक निजी हेलीकॉप्टर से पहुंचे। 
रात भर हेलीकॉप्टर कस्बे के एक निजी स्कूल के परिसर में बनाए गए हेलीपेड पर सशस्त्र पुलिस जवानों की सुरक्षा में खड़ा रहा, गुरुवार को तड़के सुबह दूल्हा सचिन शर्मा, निधि को हेलीकॉप्टर में बिठाकर अपने साथ बिदा करा ले गए।

सचिन के पिता द्वारिका प्रसाद ने बताया कि उनके पिता (सचिन के दादाजी) रतीराम शर्मा की इच्छा थी कि उनके पोते का विवाह हो तो दुल्हन, भगवान राम व सीता की तरह उडऩखटोले में ही बैठकर घर आए।  इसलिए हमने बिदाई के लिए हेलीकॉप्टर की व्यवस्था की। 


छह माह पहले ही गोरमी प्रशासन से ली थी अनुमति 
चार सीटर हेलीकॉप्टर में पाइलट के साथ सचिन व निधि के अलावा उनके एक रिश्तेदार ने भी सफर किया। निधि के पिता नेकराम शर्मा ने बताया कि दूल्हा पक्ष ने पहले ही बता दिया था कि वे बहू की बिदा कराने हेलीकॉप्टर से आएंगे इसलिए हमने प्रशासन से छ: माह पहले ही यहां हेलीपेड बनाने आदि की अनुमतियां ले ली थीं।  

नेकराम के चार बेटियां हैं, कोई बेटा नहीं है। निधि तीसरे नंबर की बेटी है, जिसके विवाह में उन्होंने भी दिल खोलकर खर्च किया। यहां बतादें कि दूल्हा का परिवार आर्थिक रूप से काफी संपन्न है। सचिन एमबीए के छात्र हैं। हेलीकॉप्टर के लिए दूल्हा परिवार ने ६ लाख रुपए किराया चुकाया। यह विवाह समारोह गोरमी नगर के सांईराज मैरिज गार्डन में आयोजित किया गया था।


ईसी के फैसले के विरुद्ध जेयू में उतारा हेलीकॉप्टर 
जीवाजी यूनिवर्सिटी (जेयू) में निजी शादी समारोह के लिए हेलीकॉप्टर लैंड कराने का मामला सामने आया है। विवि के अधिकारियों का कहना है कि ईसी में पूर्व में निर्णय हो चुका है कि बिना किसी विशेष परिस्थिति के हेलीकॉप्टर लैंड नहीं हो सकता है। 

विशेष परस्थितियों में इसके लिए 30 हजार रुपए चार्ज फिक्स किया गया था। मामले पर कुलपति प्रो.संगीता शुक्ला से बात की गई तो उन्होंने रजिस्ट्रार डॉ.आनंद मिश्रा से बातचीत करने को कहा। डॉ.मिश्रा का कहना था कि जिस व्यक्ति की शादी है वह विवि का छात्र है। उसने आग्रह किया था, इसलिए हमने उसे अनुमति दे दी। इसके लिए छात्र ने पैसे जमा कराए हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned