GST के रजिस्ट्रेशन के पहले ही दिन हुआ सर्वर डाउन

Gwalior, Madhya Pradesh, India
 GST के रजिस्ट्रेशन के पहले ही दिन हुआ सर्वर डाउन

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) में रजिस्ट्रेशन के लिए वाणिज्यिक कर विभाग के पोर्टल एमपीसीटीडी पर बुधवार से प्रक्रिया शुरू हो गई है। 


ग्वालियर।  गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) में रजिस्ट्रेशन के लिए वाणिज्यिक कर विभाग के पोर्टल एमपीसीटीडी पर बुधवार से प्रक्रिया शुरू हो गई है। पोर्टल से व्यापारी और डीलर को पहले जीएसटी पोर्टल पर लॉग इन करने के लिए यूजर नेम व पासवर्ड लेना होगा। इसके बाद ही वह जीएसटी पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन नंबर लेने की प्रक्रिया कर सकेंगे।

रजिस्टे्रशन प्रक्रिया 15 दिसंबर तक चलेगी 
पहले दिन रजिस्टे्रशन करने वालों को सर्वर डाउन की परेशानी का सामना करना पड़ा। जीएसटी के पोर्टल पर रजिस्टे्रशन प्रक्रिया 15 दिसंबर तक चलेगी। प्रदेश में लगभग दो लाख रजिस्टर्ड कारोबारी हैं वहीं ग्वालियर में इनकी संख्या करीब 25 हजार बताई जा रही है।

जानकारी अपलोड करते समय यह जरूरी
व्यापारी व डीलर को जीएसटी में जानकारी अपलोड करते समय अपना चालू ई-मेल आईडी व मोबाइल नंबर ही डालना होगा। एक बार अस्थायी रजिस्ट्रेशन होने पर जीएसटी लागू होने तक वह इसे दोबारा बदल नहीं सकेंगे। फिलहाल यह रजिस्टे्रशन वैट के लिए किया जा रहा है, सर्विस टैक्स के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया बाद में की जाएगी।


ऐसे होगा रजिस्टे्रशन
व्यापारी और डीलर को वाणिज्यिक कर विभाग के एमपीसीटीडी पोर्टल पर जाना होगा। यहां लॉग इन करने पर उन्हें जीएसटी पोर्टल पर जाने के लिए यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा। इस पासवर्ड से व्यापारी जीएसटी पोर्टल पर अपना यूजर नेम और पासवर्ड बना सकेंगे।

वह www.gst.gov.in पर जाकर वाणिज्यिक कर विभाग से मिले यूजर नेम और पासवर्ड से लॉग इन करेंगे। उन्हें अपना ई-मेल, आईडी, मोबाइल नंबर अपलोड करना होगा।ऐसा करने पर उन्हें ई-मेल और मोबाइल पर वन टाइम पासवर्ड मिलेगा।

इस नए यूजर नेम का उपयोग करते हुए उन्हें जीएसटी पोर्टल पर अपने व्यापार की पूरी जानकारी अपलोड करना होगी। साथ ही डिजिटल हस्ताक्षर करना होंगे। ऐसा करने के बाद उन्हें जीएसटी का अस्थायी रजिस्टे्रशन नंबर मिल जाएगा। 
  • शहर में 25 हजार व्यापारी कराएंगे पंजीयन
  • 15 दिसंबर तक चलेगी जीएसटी के पोर्टल पर रजिस्टे्रशन की प्रक्रिया 
डिजिटल हस्ताक्षर में आएगी परेशानी
जीएसटी के रजिस्ट्रेशन में पहले दिन सर्वर डाउन की परेशानी आई। रजिस्टे्रशन के लिए सिर्फ 16 दिन की अवधि काफी कम रहेगी क्योंकि व्यापारियों को इसमें सबसे अधिक परेशानी डिजिटल हस्ताक्षर की आएगी। अधिकांश व्यापारियों के पास अभी भी डिजिटल हस्ताक्षर मौजूद नहीं हैं। 
अनिल अग्रवाल, उपाध्यक्ष, मप्र टैक्स लॉ बार ऐसोसिएशन 

हेल्प डेस्क बनाई
जीएसटी रजिस्टे्रशन के लिए हेल्प डेस्क बनाई गई हैं। सर्किल स्तर सहित संभाग स्तर पर दो-दो लोग इसके लिए नियुक्त किए गए हैं। इसके बाद भी यदि किसी व्यापारी को कोई परेशानी आती है तो वह अधिकारियों से सीधा संपर्क कर सकेगा। यदि कोई व्यापारी रजिस्टर्ड नहीं है तो वह पहले विभाग में रजिस्टे्रशन करवा ले। फिर वह जीएसटी पोर्टल पर रजिस्टे्रशन करवा सकते हैं। 
एसके श्रीवास्तव, संभागीय उपायुक्त, वाणिज्यिक कर विभाग 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned