बेरहम मां नवजात को छोड़ गई रेत में दबाकर मगर वो मौत को मात देकर बन गया लाड़ला!

Gwalior, Madhya Pradesh, India
बेरहम मां नवजात को छोड़ गई रेत में दबाकर मगर वो मौत को मात देकर बन गया लाड़ला!

यहां अलसुबह एकदम उस वक्त सनसनी फैल गई जब एक यहां रेत के ढेर में दबा हुआ एक नवजात मिला। बच्चे का पूरा शरीर रेत में धंसा हुआ था और मुंह पर पॉलिथीन बंधी हुई थी। जब बच्चे को करीब से देखा तो बच्चा जिंदा था।

ग्वालियर/भिंड। जिले के लहार तहसील का एक कस्बा अस्बार। यहां अलसुबह एकदम उस वक्त सनसनी फैल गई जब एक यहां रेत के ढेर में दबा हुआ एक नवजात मिला। बच्चे का पूरा शरीर रेत में धंसा हुआ था और मुंह पर पॉलिथीन बंधी हुई थी। जब बच्चे को करीब से देखा तो बच्चा जिंदा था। खैरियत की बात ये है कि बच्चा ठीक है और अस्पताल में डॉक्टरों की देखरेख में है। पूरे मामले में सबसे बड़ी बात ये है कि जिस बच्चे को अपनों ने ठुकरा दिया है उसे अपनाने के लिए इलाके के कई लोगों ने अपने हाथ आगे बढ़ाए हैं।



जानकारी के अनुसार आज सुबह असबार निवासी अयोध्या प्रसाद चौहान ने जब अपना दरवाजा खोला और बगल में पत्थर के पास मिट्टी लेने गए तो वहां पड़ी रेत में नवजात शिशु दिखा। नवजात रेत से लगभग पूरी तरह से ढंका था और उसके मुंह में पॉलिथीन लगी हुई थी। श्री चौहान ने बच्चे को उठाया और उसे साफ  किया। उसके बाद उन्होंने 100 नंबर डायल किया और बच्चे को थाने व थाने से सीधे लहार अस्पताल लेकर गए।



माता पिता का नहीं कुछ पता
फिलहाल नवजात के माता पिता का कुछ पता नहीं है। ऐसा बता रहे हैं कि जन्म के एक दो दिन बाद इसे अपने ही यहां छोड़ गए है। हालांकि पुलिस सभी एंगल से मामले की तफ्तीश कर रही है। पुलिस आस पास के नर्सिंग होम, अस्पतालों में भी जांच कर रही है। इलाके में पूछताछ भी जारी है। फिलहाल बच्चा किसका है?  कहाँ से आया? अभी तक इसका कोई पता नहीं है और यह पूरे गांव में चर्चा का विषय बना हुआ है।


यहभी पढ़ें -  राष्ट्रपति चुनाव: रामनाथ कोविंद का है इस शहर से खास रिश्ता, जानिए उनके बारे में कुछ रोचक बातें



बच्चे को अपनाने उठे हाथ
नवजात बच्चे को मिले अभी ज्यादा समय भी नहीं हुआ है और उसे अपनाने के लिए कई लोग आगे आ रहे हं।ै असबार निवासी पवन भटनागर के एक बच्ची है और असबार हाईस्कूल में पदस्थ अमाह निवासी जेपी कुशबाह के कोई संतान नहीं है। दोनो ही बच्चे को अपनाने के लिए सुबह ही लहार अस्पताल पहुंच गए हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned