घरों को हड़पने की धमकी देकर की जा रहे बेजा वसूली!, जानेंगे तो चौक जाएंगे आप 

Gwalior, Madhya Pradesh, India
घरों को हड़पने की धमकी देकर की जा रहे बेजा वसूली!, जानेंगे तो चौक जाएंगे आप 

शिवनगर घोसीपुरा से जनसुनवाई में आईं करीब आधा सैकड़ा पीडि़त महिलाओं ने प्रभारी कलेक्टर से की मामले की शिकायत, 25 हजार के स्थान पर अब 40 हजार मांग रहे हैं कंपनी वाले।

ग्वालियर। साहब, पहले तो हमें स्वरोजगार करने के नाम पर घर-घर आकर कर्ज दिया। अब उस कर्ज पर ब्याज की बेजा वसूली कर रहे हैं। मनमाना सूद न देने पर घरों को हड़पने की धमकी दे रहे हैं। 

शिवनगर घोसीपुरा से आईं करीब आधा सैकड़ा पीडि़त महिलाओं ने प्रभारी कलेक्टर से उक्त मामले की शिकायत की। पीडि़ताओं का कहना था कि धनलक्ष्मी व एक अन्य कंपनी के कारिदों ने दिए तो केवल 25 हजार और एक साल में 40 हजार रुपए जमा कराने का दबाव डाल रहे हैं। जनसुनवाई में नए पुराने मिलाकर सवा दो सौ आवेदन पहुंचे। 



बनाए थे समूह : पीडि़त महिलाओं ने अपने हस्ताक्षरित आवेदन में उल्लेख किया कि करीब एक साल पहले धनलक्ष्मी कंपनी के कारिंदे उनके घरों पर आए थे। उन्होंने आसान किश्तों व मामूली ब्याज पर कर्ज देने की पेशकश की। चूंकि पैसे की जरूरत थी इसलिए उन्होंने महिलाओं के कई समूह बनाकर कर्ज देना शुरू कर दिया। अधिकतर महिलाओं को 25-25 हजार रुपए कर्ज दे दिया । 



कुछ महीने ही गुजरे थे कि उन्होंने ब्याज के साथ राशि  की वसूली के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया। कंपनी वाले अब 25 के स्थान पर 40-40 हजार रुपए की माग कर रहे हैं। कई महिलाओं ने 30 -30 हजार रुपए तक चुका दिया,  बावजूद इसके उन्हें इस कर्ज से मुक्ति नहीं मिल पा रही  है। महिलाओं का कहना था कि उन्हें घरों पर ताला डालने की धमकी दी जा रही है।
इधर, कई मामले दर्ज फिर भी गुंडा लिस्ट में नाम नहीं जोड़ा
उटीला थाना क्षेत्र  के कुछ लोग मंगलवार को एसपी की जनसुनवाई में पहुंचे। उनका कहना कि कुछ लोगों ने छह से सात अपराध दर्ज है, फिर भी उटीला पुलिस ने उनका नाम गुंडा लिस्ट में नहीं जोड़ा। उटीला से दिनेश शर्मा, दीवान, राम सिंह सहित कई लोगों ने बताया गुर्री ग्राम के मोहर जाटव, सौसा के ब्रिजेन्द्र सिंह यादव और शिवचरण पर उटीला थाने में करीब छह से सात प्रकरण दर्ज है। इसके बाद भी उटीला पुलिस इनके नाम गुंडा लिस्ट में नहीं जोड़ रही है। उन्होंने जनसुनवाई में इनके नाम गुंडा लिस्ट में जोडऩे की मांग की। 



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned