सील क्लीनिक खोलकर जब्त किए रिकॉर्ड व दवाएं

gwalior
सील क्लीनिक खोलकर जब्त किए रिकॉर्ड व दवाएं

 बिना डिग्री और रजिस्ट्रेशन के क्लीनिक चला रहे फर्जी डॉक्टरों के सील क्लीनिकों को खोला गया। क्लीनिक खुलते ही यहां एलोपैथी दवा और इंजेक्शनों का जखीरा मिला। दस दिन बाद प्रशासनिक व स्वास्थ्य अमले को सबूत जुटाने की याद आई।

ग्वालियर. मोहना और घाटीगांव में बिना डिग्री और रजिस्ट्रेशन के क्लीनिक चला रहे फर्जी डॉक्टरों के सील क्लीनिकों को रविवार को खोला गया। क्लीनिक खुलते ही यहां एलोपैथी दवा और इंजेक्शनों का जखीरा मिला। जिसे स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जब्त कर लिया। दरअसल यह कार्रवाई फर्जी डॉक्टरों के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटाने के लिए थी। बता दें कि इन क्लीनिकों को इसी माह की सात तारीख को छापामार कार्रवाई के बाद सील किया गया था।

दस दिन बाद प्रशासनिक व स्वास्थ्य अमले को सबूत जुटाने की याद आई। कलेक्टर के निर्देश पर एसडीएम घाटीगांव विनोद सिंह के नेतृत्व में स्वास्थ्य और पुलिस अमले ने रविवार को मोहना ओर घाटीगांव में दबिश दी। जिससे क्षेत्र में हड़कंप मच गया। सीएमएचओ के दल ने एक-एक कर सील क्लीनिक खोले और एलोपैथ दवाएं व अन्य सामान जब्त किया। कार्रवाई के दौरान फर्जी डॉक्टर भी मौजूद रहे। बताया जाता है कि यह कार्रवाई न्यायालय में परिवाद पत्र पेश किए जाने के बाद पर्याप्त साक्ष्य के लिए की गई थी।

मोहना में 28, घाटीगांव में 12 क्लीनिक सील

7 जुलाई को मोहना में 28 और घाटीगांव में 12 क्लीनिक सील किए गए थे। दस दिन तक स्वास्थ्य विभाग इन पर एफआईआर दर्ज कराने की कार्रवाई के लिए दस्तावेज तैयार करता रहा। एफआईआर कराने जब बीएमओ पुलिस थाने पहुंचे, तो वहां एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया गया। एेसे में स्वास्थ्य विभाग को न्यायालय में परिवार पत्र पेश करना होंगे।

नहीं है अधिकार फिर भी दे रहे थे एेसी दवाएं

दिलचस्प बात यह है कि रविवार को जब्ती की कार्रवाई में क्लीनिक में मिलीं दवाओं को देख स्वास्थ्य विभाग के अफसर दंग रह गए। यहां शेड्यूल एच वन की दवा का जखीरा भी मिला। जच्चा-बच्चा की जांच कराने से लेकर गर्भपात की भी दवा जब्त की गई हैं। फर्जी डॉक्टर यह भी नहीं जानते थे कि इन दवाओं का कितना डोज किसे दिया जाना चाहिए। इसके बाद भी वे एलौपैथ दवा देकर लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर रहे थे।

- क्लीनिकों के अंदर रखे सामान व दवाओं को जब्त करने के लिए प्रशासन, पुलिस के साथ पहुंचे थे। पड़ताल कर साक्ष्य जुटा लिए हैं। अब सभी के खिलाफ परिवाद पत्र कोर्ट में पेश करेंगे। डॉ.एसएस जादौन, सीएमएचओ

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned