12 KM की दौड़ लगाई, हजारों मिन्नतें की तब जाकर छात्रों को मिले एडमिट कार्ड, ये थी वजह

Gwalior, Madhya Pradesh, India
12 KM की दौड़ लगाई, हजारों मिन्नतें की तब जाकर छात्रों को मिले एडमिट कार्ड, ये थी वजह

परीक्षा देने से पहले छात्रों को एडमिट निकलवाने के लिए 12 किलोमीटर की दौड़ लगाना पड़ी। मिन्नतें भी करना पड़ी। तब जाकर कहीं उनके एडमिट कार्ड उन्हें मिले और उन्होंने परीक्षा दी। आखिर क्या थी इसकी वजह?

ग्वालियर। जेयू में गुरुवार को कर्मचारियों की हड़ताल का खामियाजा पीजीडीसीए प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा देने वाले छात्रों को भुगतना पड़ा। कई छात्रों के एडमिड कार्ड नहीं निकले, तो वे 12 किलोमीटर का सफर तय करके मुश्किल से जेयू आए, लेकिन यहां उन्हें अंदर नहीं जाने दिया। उन्होंने कर्मचारियों ने मिन्नतें की, तब वे अंदर जा सके।






अंदर उन्होंने असिसटेंट रजिस्ट्रार अभयकांत मिश्रा को अपनी शिकायत दर्ज कराई। मिश्रा ने तुरंत छात्रों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए संबंधित कर्मचारियों से मौके पर एडमिड कार्ड निकलवाए। ये छात्र सिटी कॉलेज के थे जिसका परीक्षा सेंटर माधव कॉलेज मेंं था। लेकिन एडमिड कार्ड न होने के कारण उन्हें परीक्षा से वंचित होना पड़ सकता था। इसकी कारण वे जेयू आए।






आरटीआई से निकालो कॉपी, कोर्ट जाओ
बीडीएस थर्ड प्रोफ. के छात्र परीक्षा नियंत्रक डॉ.राकेश कुशवाह से मिले। उनका कहना था कि जेयू ने रिव्यू का जो रिजल्ट घोषित किया है उसमें कई पास छात्रों को फेल कर दिया गया है। इस पर डॉ. कुशवाह का कहना था कि री-वैल्यूवेशन उन्होंने नहीं, एक्सपर्ट ने किया है। अगर कोई दिक्कत है तो आरटीआई के तहत अपनी कॉपी निकालिए। अगर समस्या का समाधान नहीं होता है तो आप कोर्ट जा सकते हैं।







"जेयू की हड़ताल के कारण काफी परेशानी हुई। 12 किलोमीटर से दौड़ता आया। यहां अंदर जाने से रोक दिया। मिन्नतें की, तब एडमिड कार्ड निकलवा पाया।"
संजू कुशवाह, छात्र, पीजीडीसीए



हड़ताल से छात्रों को उठानी पड़ी मुसिबते, मार्कशीट व रिजल्ट के लिए भटके छात्र

मप्र विश्वविद्यालयीन (गैर शिक्षक) कर्मचारी संघ के तत्वावधान में 17 सूत्रीय मांगों को लेकर जीवाजी यूनिवर्सिटी के सभी नियमित व डेलीवेज कर्मचारी गुरुवार सुबह 10 बजे से हड़ताल पर रहे। उन्होंने दोनों गेटों पर ताला डाल दिया, जिससे छात्र अंदर नहीं जा पाए। इसके बाद कुलसचिव डॉ.आनंद मिश्रा को ज्ञापन देकर मांगों की जानकारी दी, ताकि वे शासन को इससे अवगत करा सकें।






कर्मचारियों द्वारा काम ठप्प करने से सबसे ज्यादा परेशान वे छात्र रहे जो रिजल्ट व मार्कशीट के लिए अंचल के दूर-दराज के क्षेत्रों से जेयू आए। हालांकि कुलपति सचिवालय में दिनभर काम चला। वहीं अधिकारियों ने जरूरी फाइलों के काम निपटाए।  इस दौरान तृतीय श्रेणी कर्मचारी संघ के सचिव डॉ.दीपक वर्मा, गैर शिक्षक कर्मचारी संघ के अध्यक्ष जण्डेल सिंह, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष तहसीलदार सिंह कंषाना, संरक्षक राजेश मिश्रा  के साथ अन्य कर्मचारियों ने कुलसचिव डॉ.आनंद मिश्रा को कर्मचारियों के सामूहिक अवकाश का लेटर सौंपा।


अंदर जाने से रोका तो सुनाई खरी-खोटी 
हड़ताल के दौरान परीक्षा नियंत्रक कक्ष में काम करने वाले कर्मचारी दत्तात्रय भेलसे को जब संघ के सचिव डॉ.दीपक वर्मा ने रोकने का प्रयास किया तो वे गुस्सा हो गए। उन्होंने वर्मा को मौके पर ही जमकर खरी-खोटी सुनाई। जिससे अन्य कर्मचारी भड़क गए। मामला बढ़ता देख अन्य कर्मचारियों ने दोनों पक्षों को समझाकर मुश्किल से विवाद रोका। करीब आधा घंटे दोनों पक्षों में जमकर हंगामा किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned