पांच साल पहले हुई थी शादी, पत्नी की लगी नौकरी तो पति से मांगा तलाक

Gwalior, Madhya Pradesh, India
 पांच साल पहले हुई थी शादी, पत्नी की लगी नौकरी तो पति से मांगा तलाक

शादी के पांच साल बाद एक विवाहिता ने थानेदार बनने के साथ ही न केवल अपने पति से दूरी बना ली, बल्कि तलाक की भी तैयारी कर ली है। परेशान पति अब पुलिस अधिकारियों को आवेदन देकर शिकायत कर रहा है।

ग्वालियर/शिवपुरी। शादी के पांच साल बाद एक विवाहिता ने थानेदार बनने के साथ ही न केवल अपने पति से दूरी बना ली, बल्कि तलाक की भी तैयारी कर ली है। परेशान पति अब पुलिस अधिकारियों को आवेदन देकर शिकायत कर रहा है। वहीं थानेदार पत्नी का कहना है कि उनके पास कोई आय का स्त्रोत नहीं है, ऐसे में जीवन की गाड़ी चलना मुश्किल है। खास बात यह है कि दोनों ने ही एक साथ एसआई की तैयारी की, जिसमें पत्नी तो दरोगा बन गई, लेकिन पति बेरोजगार ही रह गया।





Image may contain: 1 person, standing and outdoor


शिवपुरी शहर की अंबेडकर कॉलोनी में रहने वाले विनोद जाटव ने बताया 1 मई 2012 को मेरा विवाह गुना के भुल्लनपुरा निवासी मंजू मखैनिया से हुआ था। विवाह के बाद से दोनों अपने-अपने घरों पर रहकर पुलिस सब इंस्पेक्टर भर्ती की तैयारी कर रहे थे। करीब आठ माह बाद मंजू का उपनिरीक्षक में चयन हो गया, जबकि विनोद अभी भी तैयारी कर रहा है।





Image may contain: 1 person, standing and outdoor

मंजू जब ट्रेनिंग करके वापस लौटी, तो उसने कुछ ही दिन बाद विनोद से तलाक देने की बात कह दी। इधर विनोद तलाक की बात सुनकर परेशान है। बकौल विनोद, जब मैंने तलाक का कारण पूछा तो मंजू ने कुछ नहीं बताया बल्कि पुलिसिया अंदाज में उससे कहा कि मैं तलाक के कागज बनवा रही हूं तुम चुपचाप आकर साइन कर देना


 विनोद के अनुसार समझाने के बाद उसकी पत्नी नहीं मानी तो मजबूर होकर विनोद को मामले की शिकायत अशोकनगर एसपी संतोष सिंह गौर के पास करनी पड़ी। पुलिस मामले की जांच कर रही है। विनोद चाहता है कि पत्नी उसके साथ रहे, इसके अलावा कोई कार्रवाई नहीं करवाना। मंजू वर्तमान में अशोकनगर पुलिस कोतवाली में उनि के पद पर पदस्थ है।



 Image may contain: one or more people and outdoor



ऐसा नहीं कि मंजू मखैनिया का व्यवहार ससुरालीजनों के प्रति प्रारंभ से ही ऐसा रहा हो। विनोद के अनुसार उप निरीक्षक की परीक्षा में चयन होने के बाद वह लगातार ससुरालीजनों को अपनी सफलता के लिए दुआएं देती थी, वह हमेशा कहती थी उसके ससुरालीजनों की दुआ का असर है कि उसे सफलता मिली।


पिता बोले, मां करौली से की थी प्रार्थना
विनोद के पिता फितूरीलाल जाटव भी अपने पुत्र के घर में आए बिखराव से दुखी हैं उनका कहना था कि जब बहू उपनिरीक्षक की परीक्षा के लिए तैयारी कर रही थी, तब मां करौली के दरबार में जाकर उसके चयन के लिए अर्जी लगाई थी। जब उसका चयन हुआ तो वह परिवार सहित फूले नहीं समाए थे, लेकिन उन्हें क्या पता था कि बहू के दरोगा बनते ही वह हमसे मुंह मोड़ लेगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned