डीएम शुभ्रा सक्सेना ने चलाया चाबुक, छिन सकता है पांच ग्राम प्रधानों का चार्ज

Nitin Srivastava

Publish: Jul, 18 2017 07:29:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
डीएम शुभ्रा सक्सेना ने चलाया चाबुक, छिन सकता है पांच ग्राम प्रधानों का चार्ज

शौचालय निर्माण को लेकर अनियमितताएं करने के गंभीर मामले सामने आने के बाद डीएम शुभ्रा सक्सेना ने कार्रवाई का चाबुक चला दिया है।

हरदोई. प्रदेश के मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में शामिल स्वच्छता अभियान के तहत गांवों को खुले में शौच से मुक्त कराने की योजना में अनियमितताएं अब ग्राम प्रधानों पर भारी पडऩे वाली है। इस मामले में शौचालय निर्माण को लेकर अनियमितताएं करने के गंभीर मामले सामने आने के बाद डीएम शुभ्रा सक्सेना ने कार्रवाई का चाबुक चला दिया है। कर्मचारियों और ग्रामीणों की ओर से मिली जानकारियों और सत्यापन रिपोर्ट को लेकर डीएम शुभ्रा सक्सेना ने अनियमिताएं और गड़बड़ी करने वाले प्रधानों का चार्ज छीनकर प्रशासक तैनात करने की कार्रवाई का खाका खींच दिया है, ताकि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार 31 दिसंबर तक ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त कराने का लक्ष्य पूरा किया जा सके।


यह भी पढ़ें:  राष्ट्रपति चुनाव के दिन ही रामनाथ कोविंद ने खेल दिया बड़ा दाव, मुलायम-शिवपाल ने पलटी बाजी


प्रधानों को नोटिस जारी

इस मामले में पांच ग्राम पंचायतों के प्रधानों को नोटिस जारी किया है। सूत्रों का कहना है कि इन सभी पांचों ग्राम प्रधानों से एक सप्ताह के भीतर अनियमितताएं दूर कर शासन की मंशानुसार योजनाओं का संचालन पारदर्शिता के साथ कराने की चेतावनी दी गई है। पंचायत राज विभाग के सूत्रों ने बताया कि अगर एक सप्ताह में अनियमितताएं दूर नहीं हुई तो इन ग्राम प्रधानों का चार्ज छीन कर प्रशासक तैनात किया जा सकता है। जिला प्रशासन के कड़े तेवरों से प्रधानो में हडकंप मच गया है। बताया गया है कि डीएम को जानकारी दी गई कि मुख्यमंत्री के इस उच्च प्राथमिकता वाले कार्यक्रम खुले में शौच मुक्त अभियान के तहत ग्रामीणों के घरों पर शौचालय निर्माण के लिए दी जाने वाली अनुदान राशि को लाभार्थियों से जबरिया वसूला जा रहा है। जिसके कारण लाभार्थी शौचालय निर्माण नहीं करा पा रहे है। कुछ लाभार्थियों ने प्रधानों की जबरिया वसूली को लेकर योजना का लाभ न दिए जाने की शिकायत की, जिसकी जानकारी संबंधित कर्मचारियों द्वारा दी गई। शिकायतों का परीक्षण कराने के बाद डीएम ने यह कार्रवाई की है।




बड़ी कार्रवाई के संकेत

बताया जाता है कि डीएम ने इससे पहले कई बार सभी को शासन की मंशानुसार शौचालय निर्माण कार्य समय से पूरा कराने को लेकर निर्देश दिए थे, मगर विभागीय कर्मियों ने कुछ स्थानों पर वसूली और मनमानी की जानकारी देकर हाथ खड़ेे करने शुरू कर दिए। जिसके बाद डीएम ने समीक्षा बैठक के बाद बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए। अहिरोरी ब्लॉक की कराही, खेरबा, माधौगंज ब्लाक की ढेडनी सरैया, शाहाबाद ब्लाक की गुजीदेई, टोडरपुर ब्लाक की जठरा ग्राम पंचायत के प्रधानों को नोटिस जारी की गई है। इन ग्राम पंचायतों को एक सप्ताह का समय दिया गया है। अगर शासन की मंशानुसार काम नहीं होगा और अनियमिताएं व धांधली होगी, तो इन प्रधानों के चार्ज को हटाकर प्रशासक तैनात करने की कार्रवाई करनी पड़ेगी, ताकि समय से योजनाओं का लाभ पात्रों को मिलना सुनिश्चित किया जा सके।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned