#UPElection2017 भाजपा में टिकट बंटवारे को लेकर बड़ा खुलासा..

Amit Sharma

Publish: Jan, 13 2017 12:35:00 (IST)

Hathras, Uttar Pradesh, India
#UPElection2017 भाजपा में टिकट बंटवारे को लेकर बड़ा खुलासा..

राजनैतिक दल रोज नए दांव खेल रहे हैं, लेकिन अभी तक कुछ सियासी दलों की ओर से अपने पत्ते नहीं खोले गए हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा इंतजार भाजपा की पहली लिस्ट का है।

हाथरस। विधानसभा चुनाव 2017 के आगाज के साथ ही सभी राजनैतिक दलों ने अपने दांव पेंच चलना शुरू कर दिए हैं। ताश के पत्तों की तरह राजनैतिक दल दांव खेल रही हैं। लेकिन अभी तक कुछ सियासी दलों की ओर से अपने पत्ते नहीं खोले गए हैं, जिनमें भाजपा, कांग्रेस और रालोद शामिल हैं। ऐसे में लोगों को सबसे इंतजार भाजपा की आने वाली पहली लिस्ट पर है। भजपा की लिस्ट को लेकर रोज कयास लगाए जा रहे हैं।

सपा प्रत्याशी असमंजस में
समाजवादी पार्टी की बात करें तो, आपसी कलह के कारण इस पार्टी के प्रत्याशी पूरी तरह खुलकर मैदान में नहीं आ पा रहे हैं। भारत  निर्वाचन आयोग के फैसले के बाद सपा के चिन्ह का बंटवारा होने के बाद सब कुछ साफ़ होने का इंतजार किया जा रहा है। लेकिन इन सब के बीच अभी जनता अभी अपने प्रत्याशी के चयन में असमंजस की स्थिति में पड़ी हुई है। यह चुनाव जातिगत आकड़ों को ध्यान में रखकर सभी पार्टियां अपना प्रत्याशी मैदान में उतारने में लगी हैं।

भाजपा में बाहरी बने सिरदर्द

भाजपा द्वारा प्रत्याशियों की घोषणा न किये जाने के कारण सभी टिकट दावेदार अपने-अपने तरीके से जनता और अपने आलाकमान पर छाप छोड़ने में लगे हुए हैं। जिससे कि प्रत्याशियों की घोषित होने वाली लिस्ट में उनका नाम आ सके, लेकिन फ़िलहाल में अन्य दलों को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए नेताओं ने पुराने भाजपा नेताओं के चहेरे के रंग फीके कर दिए हैं। हाथरस विधानसभा (सुरक्षित) में भाजपा से टिकट की दावेदारी को लेकर कई नाम जोरों पर चल रहे थे, लेकिन बसपा से विधायक गेंदा लाल चौधरी के पिछले दिनों भाजपा में शामिल होने से अन्य टिकट दावेदारों के चेहरे की रंगत उड़ गयी हैं, क्योंकि गेंदा लाल चौधरी पिछले दो बार से बसपा से विधायक हैं। वर्ष 2007 में गेंदा लाल चौधरी सासनी विधानसभा से बसपा से विधायक रह चुके हैं और परसीमन के बाद सासनी विधानसभा के कुछ हिस्से को हाथरस विधानसभा में  शामिल किये जाने के बाद वह वर्ष 2012 में यहां से विधायक हैं। लगातार दो बार विधायक रहने के कारण भाजपा उन पर दांव खेल सकती है।

बाहरियों पर भी दांव लगा सकती है भाजपा
भाजपा जिलाध्यक्ष रामवीर सिंह परमार की मानें तो भाजपा अपने पुराने कार्यकर्ताओं पर ही दांव खेलेगी। अगर किसी भी स्थिति में भाजपा अपने पार्टी के कार्यकर्ता को कमजोर समझेगी तो बाहर से आने वाले को प्रत्याशी घोषित कर सकती है। वैसे हाथरस में भाजपा अच्छी स्थिति में है इसलिए अपने कार्यकर्ता पहले हैं। उन्होंने यह भी बताया कि अगर यूपी और बिहार की जातिगत हवा को देखकर पार्टी ने प्रत्याशी घोषित किया तो पार्टी अपनी समझ से प्रत्याशी मैदान में उतारेगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned