इस सीट पर 20 साल से हाथी का राज, कभी नहीं चली साइकिल 

Hathras, Uttar Pradesh, India
इस सीट पर 20 साल से हाथी का राज, कभी नहीं चली साइकिल 

दूसरे नंबर की लड़ाई में भाजपा या आरएलडी, आठ बार कांग्रेस रही विजेता

हाथरस। हाथरस जिले में तीन विधानसभा सीटें हैं। दो पर बसपा और एक पर सपा का कब्जा है। लेकिन एक सीट है 78 नंबर हाथरस जिसपर कभी भी सपा की साइकिल नहीं चल पाई। वर्ष  2012 विधान सभा चुनाव में सपा लहर में भी इस सीट पर कोई असर नहीं पड़ा। सपा को मात्र 502 मत मिले थे। सपा दूसरे नंबर पर भी नहीं आ सकी। इस सीट पर 20 वर्षों से लगातार बसपा के हाथी का एकाधिकार बना हुआ है। वर्ष 1993 में राजवीर सिंह भाजपा से चुनाव जीते थे। लेकिन 1996 से 2007 तक रामवीर उपाध्याय बसपा से चुनाव जीतते रहे। वर्ष 2012 में यह सीट अनुसूचित हो गई जिससे रामवीर की जगह गेंदा लाल चौधरी मैदान में थे और उन्होंने भाजपा के राजेश कुमार को 8 हजार से अधिक मतों से हरा दिया था। 

आंकड़े  जो बालते है 

जिले की जनसंख्या 1,56,4708 है जिनमें 8,36,127 पुरुष और 7,28,581 महिला है। 

कुल मतदाता 
3,42,193
पुरुष  
1,90,472
महिला 
1,51,721
कुल मतदान 
1,58,545

चार को मिला था 10 हजार से अधिक वोट 

बसपा: गेंदालाल चौधरी 
भाजपाः राजेश कुमार
कांग्रेसः राजेश राज जीवन  
एमडी : लाला राम 

505 से कम मत पाने वाले 

सपा के राम नरायण, एलडी के ओंकार प्रसाद, एएसपी के नेत राम सिंह, आरएलएम के मुकेश कुमार इनमें शामिल थे। 

वर्ष 1951 से 2012 के विजेता 
1951    हरदयाल सिंह-कांग्रेस
1957    नन्द कुमार कांग्रेस 
1962   नन्द कुमार -कांग्रेस 
1967   आरएसस सिंह-बीजेएस 
1969    प्रेम चन्द्र शर्मा-कांग्रेस 
1974    नारायन हरी शर्मा-कांग्रेस 
1977    राम सरन सिंह-जेएनपी 
1980    सूरजभान-जेएनपी 
1985    नरायन हरी शर्मा-कांग्रेस 
1989    राम सरन सिंह-जनता दल 
1991    राम सरन सिंह-जनत दल 
1993    राजवीर सिंह-भाजपा 
1996    रामवीर उपाध्याय-बसपा 
2002    रामवीर उपाध्याय-बसपा 
2007    रामवीर उपाध्याय-बसपा 
2012     गेंदालाल चौधरी -बसपा 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned