प्रदेश की एक मात्र सरपंच जो महिलाओं के लिए बनी मिसाल

krishna rajput

Publish: Jun, 19 2017 09:04:00 (IST)

Hoshangabad, Madhya Pradesh, India
प्रदेश की एक मात्र सरपंच जो महिलाओं के लिए बनी मिसाल

अपने दम पर कराया काम मोरपानी की महिला सरपंच के उत्कृष्ट काम ने दिलाई पहचान मनरेगा के तहत कराए उत्कृष्ट कार्य के लिए दिल्ली में मिला सम्मानमहिला सरपंच को उत्कृष्ट कार्य से मिली पहचान

इटारसी. केसला ब्लाक के मारपानी की आदिवासी सरपंच संगीता ठाकुर सिर्फ आठवीं तक पढ़ी हैं लेकिन उन्होंने अपनी पढ़ाई को कमजोरी नहीं बनने दी और ईमानदारी से अपना काम किया। संगीता ठाकुर की ईमानदारी का ही परिणाम है उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। वह प्रदेश की एक मात्र महिला सरपंच बन गई हैं जो दिल्ली के विज्ञान भवन में सम्मानित हुई। सम्मान समारोह में केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पंचायत ग्रामीण राज्यमंत्री कृपाल यादव, पंचायत ग्रामीण विकास विभाग सचिव अमरदीप सिन्हा मौजूद थे। यहां पूरे देश से करीब 260 सरपंच, सीईओ सहित अन्य अधिकारियों को सम्मानित किया गया।

संगीता ठाकुर ऐसे बनीं सरपंच
संगीता ठाकुर बचपन से मेधावी हैं। उनका नवोदय स्कूल के लिए चयन हो गया था लेकिन उनके पिता ने नवोदय स्कूल में दाखिला नहीं दिलाया। इसके बाद वह बैतूल के आमढ़ाना गांव में ही आठवीं तक पढ़ पाई। बाद में उनका विवाह केसला मोरपानी के गुलाब सिंह से हो गया है। गुलाब ङ्क्षसह खेती करते हैं संगीता सहयोग करती हैं। संगीता को नर्मदा महिला संघ की महिलाओं ने सरपंच का चुनाव लडऩे के लिए प्रेरित किया था। बाद में वह सरपंच बनीं उन्हें पढ़ाई के कारण थोड़ी समस्या आती है लेकिन अब उन्होंने सब सीख लिया है। 

इसलिए मिला सम्मान

वर्ष 2015-16 में मनरेगा के तहत हुए कामों का सर्वे हुआ था। भारत सरकार द्वारा कराए गए इस सर्वे के दौरान टीम मोरपानी पंचायत पहुंची थी। सर्वे टीम को गांव में हर तरफ विकास मिला। संगीता ठाकुर ने सचिव और रोजगार सहायक की मदद से मनरेगा के शत प्रतिशत काम कराया था।

- गांव में मनरेगा के तहत मेढ़ बंधान और खेत तालाब योजना, फलोद्यान के तहत शत प्रतिशत काम कराए हैं।
- गांव में 407 जॉब कार्डधारी हैं। इनमें से 199 बेरोजगारों को 100 दिन का रोजगार दिलाया इसमें से 189 आदिवासी मजदूर हैं।
- एक साल का बजट मात्र 7 लाख 12 हजार रुपए तय हुआ था लेकिन काम 15 लाख 83 रुपए के काम कराए गए।
- दिव्यांगों को भी रोजगार दिलाया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned