सेना मुख्यालयों में लगेगी शिकायत पेटी, आर्मी चीफ करेंगे निगरानी 

New Delhi, Delhi, India
सेना मुख्यालयों में लगेगी शिकायत पेटी, आर्मी चीफ करेंगे निगरानी 

अर्ध सैनिक बल के तेजबहादुर यादव और उसके बाद एक सेना के जवान का शिकायती वीडियो समाने आने के बाद आर्मी चीफ विपिन चन्द्र रावत ने नई व्यवस्था की पहल की है।

नई दिल्ली. अर्ध सैनिक बल के तेजबहादुर यादव और उसके बाद एक सेना के जवान का शिकायती वीडियो समाने आने के बाद आर्मी चीफ विपिन चन्द्र रावत ने नई व्यवस्था की पहल की है। उन्होंने कहा कि आर्मी मुख्यालयों और कमांड्स में शिकायत बॉक्स लगवाया जाएगा। ताकि कोई भी जवान अपनी शिकायत सोशल मीडिया के जरिए नहीं बल्कि सीधे सेना को भेज सके। रावत ने कहा, सोशल मीडिया में शिकायत करना गलत है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने यह भी कहा कि वे खुद इसकी निगरानी करेंगे। 

आर्मी चीफ ने कहा, "सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट करने की बजाय जवानों को अधिकारियों तक अपनी बात रखनी चाहिए। बाहर नहीं ले जाना चाहिए। हम वीडियो की जांच कराएंगे। सेना मुख्यालयों और बाकी कमांड्स में सुझाव और शिकायत के लिए बॉक्स हैं। जवान चाहें तो शिकायतें उसमें डाल सकते हैं। कार्रवाई जरूर होगी।


वायरल हो चुके हैं कई वीडियो : अब आर्मी जवान ने भी लगाया अफसरों पर जूते पॉलिस करवाने का आरोप  

पहले जम्मू-कश्मीर के पूंछ सेक्टर में तैनान बीएसएफ के जवान तेजबहादुर का वीडियो सामने आया था। इसमें जवानों के खाने-पीने में लापरवाही और अफसरों पर करप्शन के आरोप लगाए गए थे। वीडियो वायरल होने के बाद एक सीआईएसएफ के जवान का भी वीडियो सामने आया था। एक आर्मी जवान यज्ञ प्रताप सिंह का वीडियो भी सामने आया है। देहरादून के 42 इन्फेन्ट्री ब्रिगेड में तैनात लांस नायक यज्ञ प्रताप सिंह ने कहा है, 'मैंने कुछ महीने पहले पीएम को लिखी चिट्ठी में कहा था कि सहायक के तौर पर काम करने वाले सैनिकों से बूट पॉलिश नहीं करवाना चाहिए। मेरी इस शिकायत पर अफसर परेशान कर रहे हैं।" यज्ञ प्रताप ने कहा, चिट्ठी लिखने के बाद पीएमओ की तरफ से जांच का ऑर्डर आया। पर अब मुझे कोर्ट मार्शल के लिए बुलाया गया है। उधर, आर्मी चीफ ने इसकी जांच करवाने की बात कही है। 


Image result for tej bahadur yadav patrika
प्रधानमंत्री ने बीएसएफ जवान के वीडियो पर तलब की रिपोर्ट 


प्रधानमंत्री कार्यालय ने गुरुकार को बीएसएफ जवान के वीडियो का संज्ञान लेते हुए गृह मंत्रालय से रिपोर्ट तलब की। इस बीच बीएसएफ के आला अधिकारी जांच के लिए पूंछ के उस सेक्टर गए जहां से कॉन्स्टेबल ने खाने और करप्शन से जुड़ा वीडियो शेयर किया था। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned