scriptloss from public transport | चलती ठसाठस फिर भी घाटा | Patrika News

चलती ठसाठस फिर भी घाटा

शहर में संचालित लो-फ्लोर बसों की कमाई पर ग्रहण लगा हुआ है।

अजमेर

Published: February 02, 2015 02:38:18 pm

अजमेर. शहर में संचालित लो-फ्लोर बसों की कमाई पर ग्रहण लगा हुआ है। बसों में बैठने की जगह नहीं मिलती लेकिन इसके बावजूद इनका संचालन रोडवेज के लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है। इसका मुख्य कारण लो-फ्लोर बसों का शहरी क्षेत्र में चैकिंग नहीं होना बताया जा रहा है। इसके चलते बस के चालक-परिचालक जमकर चांदी कूट रहे हैं।

हालांकि रोडवेज प्रशासन का दावा है कि लो-फ्लोर बसों की उड़नदस्ता चैकिंग करता है। जवाहरलाल नेहरू शहरी नवीनीकरण मिशन (जेएनएनयूआरएम) के तहत अजमेर सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विस लिमिटेड (एसीटीएसएल) सेवा के तहत 35 लो-फ्लोर बसें संचालित की जा रही हैं। रोडवेज के माध्यम से संचालित हो रही लो-फ्लोर बसों में यात्रीभार सौ फीसदी से अधिक रहता है।

बसों में यात्री मुख्यद्वार तक लटके रहते हंैं। इसके बावजूद सरकारी आंकड़ों में यह घाटे का सौदा साबित हो रही हैं। जानकारों की मानें तो इसका मुख्य कारण शहरी क्षेत्र में लो-फ्लोर बसों की चैकिंग नहीं होना है। हालांकि निगम के अधिकारी इस बात से इन्कार कर रहे हैं।

10. 70 करोड़ घाटे में

गौरतलब है कि बसों के संचालन से रोडवेज पर लगातार आर्थिक भार बढ़ने से अप्रेल 13 से दिसम्बर 14 तक इसकी घाटा राशि करीब 10 करोड़ 70 लाख पहुंच गई है। एक अप्रेल से लो फ्लोर बसों की कमान महापौर के पास होगी।

यहां नहीं होती है चैकिंग!

सूत्रों के अनुसार रोडवेज का उड़न दस्ता ग्रामीण क्षेत्रों में रोडवेज बसों की ही चैकिंग करता है, जबकि शहर में इनकी चैकिंग नहीं होती। किशनगढ़ से पुष्कर के बीच चलने वाली बसों की आरटीओ कार्यालय से लेकर रीजनल कॉलेज के बीच चैकिंग नहीं होती।

नसीराबाद से पुष्कर के बीच चलने वाली बसों की पॉलीटेक्निक से रीजनल कॉलेज चौराहा तक, श्रीनगर से पुष्कर के बीच चलने वाली बस की राजा साइकिल से रीजनल कॉलेज चौराहा एवं किशनगढ़ से मांगलियावास के बीच संचालित बसों की आरटीओ कार्यालय से जीसीए चौराहा आदि शहरी क्षेत्र के मुख्यमार्गो पर लो-फ्लोर बसों की चैकिंग नहीं होने की बात सामने आई है।

बसों में सवार कुछ यात्री निर्धारित किराये के बदले कम राशि देकर परिचालक से टिकट नहीं लेते। इससे यह राशि परिचालक की जेब में जाती है।

लाइट से चलता है इशारा

बसों की चैकिंग होने की स्थिति में लो-फ्लोर बसों के चालक सामने से आने वाली बसों को लाइट से इशारा देते हैं। इससे बसों में बिना टिकट यात्री होने की स्थिति में परिचालक उन्हें तुरंत टिकट उपलब्ध करा देते हैं। ऎसे में उड़नदस्ते को बस में सवार सभी सवारियों के पास टिकट मिलते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

पीएम नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय शैक्षिक समागम का किया उद्धाटन बोले नई शिक्षा नीति मातृभाषा में पढ़ाई के रास्ते खोल रहीBritain के पीएम बोरिस जॉनसन ने दिया इस्तीफा, जानें वो 'एक फैसला' जिससे गई कुर्सीMaharashtra Cabinet: कैबिनेट विस्तार पर बीजेपी और शिंदे गुट में ऐसे बनी सहमति, जानें किसके के खाते में कौन-कौन से विभागVideo: पुलिस जीप में हंसता हुआ आराम से बैठा, हाथों से किए इशारे, सलमान का एक और वीडियो वायरलWest Bengal: TMC के 3 पंचायत नेताओं की बेरहमी से हत्या, हमलावर मौके से फरारMaharashtra: सपा विधायक अबू आजमी को जान से मारने की धमकी देने के मामले में मुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, पुणे से दो आरोपी गिरफ्तारKaali Poster Row: विवाद के बीच CM ममता बनर्जी का बड़ा बयान, महुआ मोइत्रा को दी नसीहतBhagwant Mann Marriage Live Updates: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को अरविंद केजरीवाल ने दी बधाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.