MPPSC ने दो दिव्यांग प्रेमियों को मिलाया और बनाया नया रिकॉर्ड!

Shruti Agrawal

Publish: Mar, 15 2017 03:39:00 (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
MPPSC ने दो दिव्यांग प्रेमियों को मिलाया और बनाया नया रिकॉर्ड!

एमपी पीएससी के जरिए सरकारी नौकरी पाने वाले दो दिव्यांग कल एक दूसरे के हो गए। 2010 में समाज कल्याण बोर्ड ने स्कॉलरशिप का एक पत्र जारी किया था जिसमें दोनों का नाम था, तब दोस्ती हुई।


इंदौर। एमपी पीएससी के जरिए सरकारी नौकरी पाने वाले दो दिव्यांग कल एक दूसरे के हो गए। 2010 में समाज कल्याण बोर्ड ने स्कॉलरशिप का एक पत्र जारी किया था जिसमें दोनों का नाम था, तब दोस्ती हुई। पढ़ाई से नौकरी तक का सफर तय करने के बाद में दोनों ने हमसफर होने का फैसला कर लिया।

कल अपर कलेक्टर अजयदेव शर्मा की अदालत में विशेष विवाह अधिनियम के अंतर्गत बैतूल के महिला सशक्तिकरण अधिकारी भगतसिंह चौहान और इंदौर में पदस्थ सहकारिता निरीक्षक कुसुम पंवार का विवाह हुआ। एमपीपीएससी के जरिए सरकारी नौकरी पाने वाले  चौहान दृष्टिहीन हैं तो पंवार दिव्यांग। दोनों के एक होने की कहानी रोचक है। 


mppsc brings disable love couple together


2010 में समाज कल्याण विभाग से दोनों की स्कालरशिप स्वीकृत हुई थी। विभाग ने एक पत्र जारी किया जिसमें दोनों के ही नाम थे। पत्र मिलने के बाद दोनों के बीच में संपर्क हुआ। बाद में पढ़ाई भी साथ में हुई और उन्हें सरकारी नौकरी मिल गई। समय के साथ में दोस्ती मजबूत होती गई और आखिर में तय किया कि आगे का जीवन साथ में गुजारेंगे। दोनों के परिवार भी शादी के लिए राजी हो गए। बकायदा इसके लिए जिला प्रशासन में विशेष विवाह का आवेदन दिया गया ताकि सरकारी मान्यता वाली शादी हो। 

नहीं माना जाति का बंधन 

दस्तावेजों से एक सूत्र में बंधे प्रेमी जोड़े ने जाति के बंधन को नहीं माना। भगतसिंह पिछड़ा वर्ग के होकर किराड़ जाति से ताल्लुक रखते हैं तो कुसुम अजजा वर्ग से होकर कोरकु जाति की हैं। शुरुआती दौर में परिजनों ने आपत्ति दर्ज कराई थी लेकिन दोनों ने अपना मत स्पष्ट कर दिया था। कुसुम भगतसिंह से 11 दिन बढ़ी भी हैं।

मिलने से पहले बिछड़ा जोड़ा

चौंकाने वाली बात ये है कि भगतसिंह और कुसुम ने विशेष विवाह के लिए आवेदन दिया। आवेदन के बाद दस्तावेजी खानापूर्ति शुरू हुई और इस बीच में एक सरकारी आदेश आ गया। भगतसिंह का तबादला बैतूल कर दिया गया तो कुसुम की पोस्टिंग इंदौर में है। हालांकि कल दोनों की शादी हो गई, लेकिन एक इंदौर में है तो दूसरा बैतूल में।  मिलने से पहले ही जोड़ा बिछड़ गया। भगतसिंह अब विभाग को आवेदन देकर प्रयास करेंगे कि दोनों को एक स्थान पर कर दिया जाए।



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned